Author: हिंदी प्याला

ग़ज़ल तर्क वितर्क | Ghazal Tark Vitark

3+ ग़ज़ल तर्क वितर्क मुश्क़िलों को समझें तर्क – वितर्क करें , मज़हबों में नहीं सोच में फ़र्क़ करें। कोहिनूर भी किसी ने चुरा लिया था , कमाई दौलत …

पटल को समर्पित कविता :- पटल के मन को भाया | Patal Ko Samarpit Kavita

0 पटल को समर्पित कविता पलता आया प्राण पिंजर में हर साँस ने मेरी गाया, एक से बढ़कर एक सुर-पाँखी पटल के मन को भाया। ढ़ली साँझ बन मुरली …

नारी पर कविता :- हे नारी तू महान है | Nari Par Kavita

1+ नारी पर कविता मन में विश्वास है हे नारी तू महान है मां, बहन, बेटी, पत्नी के रूप में हो तुम सजती । तो देवी बन मां सरस्वती …

विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी कविता :- कटते जंगल | 5 जून पर विशेष कविता

5+ विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी कविता धरती की हरियाली को तूने लूटा है, बताओ कितने जंगल को तूने काटा हैं! वनो में अब न गुलमोर न गूलर खड़ी …

पति पत्नी प्रेम कविता :- साथ चलेंगे कदम कदम | Pati Patni Prem Kavita

1+ लॉकडाउन के बाद पति से मिलने पर पत्नी की भावनाओं पर लिखी गयी ( Pati Patni Prem Kavita ) पति पत्नी प्रेम कविता “साथ चलेंगे कदम कदम ” …

ऋतुओं पर कविता :- नियम समय का है बदलाव | Rituon Par Hindi Kavita

1+ ऋतुओं पर कविता जीवन का हर एक क्षण नहीं होता है एक समान। कभी होता है हरा भरा कभी होता है रेगिस्तान।। प्रकृति भी अपने मौसम समय के …