मजदूर पर दोहे :- मजदूर दिवस पर सभी मजदूरों को समर्पित दोहे

0

मजदूर पर दोहे

मजदूर पर दोहे

दिन दुपहर या शाम हो, सभी समय मजबूर ।
उदर भरण के वास्ते, करे मेहनत मजदूर ।।

कभी कदम रुकते नहीं, सृजन करें भरपूर ।
उचित भाग मिलता नहीं, श्रम में चकना चूर ।।

दो जूना की रोटियां, होवे जिसका लक्ष्य ।
हांथ पांव चलते रहें, जीवन का उपलक्ष्य ।।

चाहे श्रम का कार्य हो, चाहे कृषि कर्म ।
जिनके तन मन में नहीं, आलस रूपी मर्म ।।

पढ़िए :- हिंदी दिवस पर दोहे | हिंदी भाषा के महत्व पर दोहे


रचनाकार का परिचय :-

आशीष तिवारीनाम – आशीष तिवारी
पिता – अशोक तिवारी
माता –
सुनैना तिवारी
प्रारम्भिक शिक्षा – शासकीय माध्यमिक विद्यालय, कोल्हुवा शहडोल मप्र।
शिक्षाशास्त्री – जगद्गुरु रामानन्दाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय, जयपुर ।
आचार्य(M.A.) साहित्य – सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी ।
स्थाई निवास-ग्रा पो कोल्हुआ जैतपुर जिला शहडोल मप्र

“मजदूर पर दोहे ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ  hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply