Tag: अंकेश धीमान

देशभक्ति कविता : हिंद की ओर | Desh Bhakti Kavita Hind Ki Or

1+ देशभक्ति कविता : हिंद की ओर सहज-सहज, प्रभु को सिमर-सिमर। पग चले, प्रगति स्वर्ण, हिंद की ओर। धूमिल न हो राष्ट्र, छवि, विश्व पटल पर। चले सर्वत्र क्षण, …

प्रकृति वर्णन पर कविता – झर झर निर्झर निशा नीर गिरे | Prakriti Varnan Par Kavita

2+ प्रकृति वर्णन पर कविता झर-झर, झर झर, निर्झर, निशा नीर गिरे। कल-कल, करतल ध्वनि, तरंगिनी करें। चारू-चंचल, किरणें, मधुर समीर बहें। मृदु भूमि, शशी पूर्ण चांदनी सलील लगे।। …

गुरु पर हिंदी कविता – नमन तुम्हें करते हैं | Hindi Poem On Guru

1+ गुरु चरणों में नमन करते हुए ( Hindi Poem On Guru ) गुरु पर हिंदी कविता :- गुरु पर हिंदी कविता गुरु देव श्री चरणों में नमन तुम्हें …

ईश्वर भक्ति पर कविता – आप यहां आप वहां | Ishwar Bhakti Kavita In Hindi

0 प्रभु की महिमा का गुणगान करती हुयी ( Ishwar Bhakti Kavita In Hindi ) ईश्वर भक्ति पर कविता ” आप यहां आप वहां ” :- ईश्वर भक्ति पर …