होली पर कविता :- ये रंगों की होली | Holi Par Hindi Kavita

0

आप पढ़ रहे हैं होली के पावन अवसर पर संदीप सिंधवाल जी द्वारा रचित बेहतरीन ( Holi Par Hindi Kavita ) होली पर कविता “ये रंगों की होली” :-

होली पर कविता

होली पर कविता

ये रंगों की होली
एक बार आती बरस में
इधर होली रंगते
दिखाई देते हैं हर पल में।

सफेद आगोश में छुपे रंग
लाल गुलाल सा बहता खून
गिरगिट सा समाए हैं रंग
पल पल बदलता वक्त पर।

केसरी हरे रंग पर रोज
खेली जाती दंगाई खूनी होली
रंगीन दागों से दगे नेता
पहनते सच्चा सफेद चोला।

काला अंधकार अपराध का
नीला जहर उगलती सियासत
पीले पवित्र वस्त्र की आड़ में
कलंकित होती भक्ति आस्था।

चेहरों का रंग हवश का शिकार
सच में ये दुनिया रंगों में रंगी है
यहीं होली रोज खेली जा रही है
रंगों की परिभाषा बदल गई है।

पढ़िए :- देश भक्ति होली गीत “कैसे खेलें हम सब होली”

“ होली पर कविता ” ( Holi Par Hindi Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply