Category: रिश्तों पर कविताएं

बहन के लिए कविता | Bahan Ke Liye Kavita

0 आप पढ़ रहे हैं बहन के लिए कविता :- बहन के लिए कविता बहन तो गुड़िया है मेरी, ओर मम्मी पापा है जान। मज़ाक मस्ती खूब वो करती, …

कविता पिता के लिए :- कभी धरती और आसमान है पिता

+1 आप पढ़ रहे हैं कविता पिता के लिए :- कविता पिता के लिए कभी धरती और आसमान है पिता, मेरा अभिमान व स्वाभिमान है पिता,, बेशक जन्म दिया …

पिता के लिए हिंदी कविता | Pita Ke Liye Hindi Kavita

+6 आप पढ़ रहे हैं पिता के लिए हिंदी कविता :- पिता के लिए हिंदी कविता पिता के लिए कोई,,,, एक दिन नहीं होता,,,, सब के सब दिन खास …

बेटी पर हिंदी कविता – स्वाभिमान है बिटिया | Beti Par Kavita

+2 आप पढ़ रहे हैं बेटी पर हिंदी कविता :- बेटी पर हिंदी कविता   विवाह की दहलीज पर बैठी। वह वैदही सी लगती है ।। कर सोलह सिंगार …

घर के बंटवारे पर कविता :- बँटवारे का माहौल

+4 आप पढ़ रहे हैं घर के बंटवारे पर कविता :- घर के बंटवारे पर कविता तन्हाईयों का शोर फिर से, गूँजने लगा है शहर में। जाने क्या से …

गृहिणी पर कविता :- आसान कहाँ था गृहिणी होना

0 घर को स्वर्ग बनाने वाली गृहिणी पर कविता :- गृहिणी पर कविता चलती कलम छोड़ झाडू घसीटना, दूध की मलाई खाना छोड़ मक्खन के लिये बचत करना, दुपट्टे …

पापा पर कविता :- जिनके हम बच्चे है | Papa Par Kavtia

+10 आप पढ़ रहे हैं पापा पर कविता :- पापा पर कविता जिनके हम बच्चे है, वो कितने अच्छे है। मेरा अभिमान है पापा जी, मेरा स्वाभिमान है पापा …

पिता के लिए कविता :- वह पिता हमारा | Pita Ke Liye Kavita

0 पुत्र के सम्बन्ध में माता का महत्व क्या होता है , इस पर बहुत कुछ लिखा गया और रचना की गई है। परन्तु पुत्र के सम्बन्ध में पिता …

जीवन साथी पर हिंदी कविता :- अर्धांगिनी | Jivan Sathi Kavita

0 आप पढ़ रहे हैं ( Jivan Sathi Par Hindi Kavita ) जीवन साथी पर हिंदी कविता ” अर्धांगिनी ” :- जीवन साथी पर हिंदी कविता रब ने बनाई …

जीवन साथी पर कविता :- मेरे साथी साथ निभाना

+1 जीवन साथी पर कविता मेरे साथी साथ निभाना। कभी ना टूटे यह याराना । हर राज का तू है राजदार। मेरे हर लेखे का तू है पक्का पहरेदार। …