प्रेम कविता (Love Poem )- यादों की सम्मां (प्रेमी की याद )

0

प्रेम कविता (Love Poem )- यादों की सम्मां (प्रेमी की याद )
प्रिय पाठकों, आज आप सबके लिए प्रस्तुत है दर्द भरी प्रेम कविता जिसमे प्रेमी का  विवाह किसी अन्य जगह हो जाता है , और फिर प्रेमिका उसको याद करते हुवे उसे फ़ोन करती है किन्तु प्रेमी अब उसका फ़ोन नहीं उठा पाता है, जाहिर सी बात है अब वह अपनी नई शुरुवात जो कर रहा है , भगवान् ऐसा मोड़ जीवन में कभी किसी को न दे ,बिछुडन का दुःख किसी मौत से कम नहीं होता है , पूरी दुनिया नीरस लगती है और आप पल-पल हर पल बस अपने साथी की यादों में खोये रहते हैं और उसकी फ़िक्र आपको आज भी सताती है , और समय और हालातों से जूझते हुवे आप हार मान जाते हैं तो आइये अपने प्रेमी को याद करते हुवे पढ़िए कवि अनमोल रतन जी की रचना –

प्रेम कविता (Love Poem )- यादों की सम्मां (प्रेमी की याद )

प्रेम कविता (Love Poem )- यादों की सम्मां (प्रेमी की याद )

क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।
जो कभी फ़ोन मेरा उठाते नही हो।।

मेरी बातें सुनकर तुम हसते थे पहले,
अब मुझें देख कर मुस्कराते नही हो।
क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।।

बैठे रहते थे घंटो मेरी राह में तुम,
क्या हुआ अब नजरें मिलाते नही हो।
क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।।

हम ना रूठे दुआं ये करते थे हरपल,
कि अब रूठतें हैं तो मनाते नही हो।
क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।।

जब मिलना विछड़ना था खेल ए मुकद्दर,
तो फिर कियूँ मुझे आपनाते नही हो।
क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।।

बेवफा बेवफा कहते रहते हो हरदम,
गर फिर भी हमे तुम भुलाते नही हो।
क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।।

ज़रा सी चोट भी रतन दिखाते थे सब को,
पर जख्म गहरा भी अब दिखाते नही हो।
क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।।

क्या यादों कि सम्मां जलाते नही हो।
जो कभी फ़ोन मेरा उठाते नही हो।।

यह भी पढ़िए – प्रेम कविता -तन्हाई (प्रेम विरह को बयाँ करती प्रेम भरी कविता )


रचनाकार का परिचय –
नाम- अनमोल रतन (श्रृंगार रस कवि)
पता – रायबरेली, उत्तर प्रदेश

तो बताईये की आपको “ प्रेम कविता – यादों की सम्मां ” रचना कैसी लगी ? यदि आप भी अपनी रचना हमारे साथ बाँटना चाहते हैं तो देर किसलिए उठाइये कलम ओर लिख डालिये अपने विचारों को अपने भावों में और नीचे दिए नम्बर पर एक फोटो और अपना परिचय सलंग्न करके हमें whatsapp द्वारा सूचित करें।

Mob- +919540270963
Mail ID- hindipyala@gmail.com
हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।


 

0

Leave a Reply