Home » Archives for Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

Avatar

भगवान राम पर दोहे | Tulsidas Ke Dohe In Hindi

भगवान राम पर दोहे

0 आप पढ़ रहे हैं तुलसीदास जी द्वारा रचित भगवान राम पर दोहे अर्थ सहित :- भगवान राम पर दोहे नाम राम को अंक है सब साधन हैं सून। अंक गएँ कछु हाथ नहिं अंक रहें दस गून॥ अर्थ – राम-नाम की महिमा का वर्णन करते हुए तुलसीदास कहते हैं कि इस संसार में केवल …

भगवान राम पर दोहे | Tulsidas Ke Dohe In Hindi Read More »

किसान पर कविता :- धरा ही उसकी माता है | Kisan Par Kavita

अन्नदाता पर कविता

0 भारतीय किसान के जीवन और उसके संघर्ष को बयान करती संदीप कुमार सिंह की किसान पर कविता :- किसान पर कविता पेट जो भरता लोगों का मिट्टी से फसल उगाता है, उस किसान की खातिर तो ये धरा ही उसकी माता है। आलस जरा न तन में रहे कोई डर न मन में रहे …

किसान पर कविता :- धरा ही उसकी माता है | Kisan Par Kavita Read More »

समय पर दोहे :- समय पर आधारित 10 दोहे | Samay Par Dohe

समय पर दोहे

+2 हमारे जीवन में समय का बहुत महत्त्व होता है। जो व्यक्ति समय की क़द्र नहीं करता उसे आगे चल कर बहुत पछताना पड़ता है। उसका जीवन कठिनाइयों के बीच गुजरता है। ऐसे में ज्ञान की बात यही है कि समय रहते समय का सदुपयोग किया जाए। जिससे हमारा जीवन सही मार्ग पर रहे और …

समय पर दोहे :- समय पर आधारित 10 दोहे | Samay Par Dohe Read More »

गुलजार की दो लाइन शायरी | Gulzar Two Line Shayari

गुलजार की दो लाइन शायरी

0 सम्पूर्ण सिंह कालरा जो पूरी दुनिया में ग़ुलज़ार नाम से प्रसिद्ध हिंदी फिल्मों एक प्रसिद्ध गीतकार हैं। इसके साथ ही वे एक कवि, पटकथा लेखक, फ़िल्म निर्देशक नाटककार तथा प्रसिद्ध शायर हैं। उनका जन्म 18 अगस्त 1934 को पंजाब के दीना नमक गाँव में हुआ था। यह गाँव इस समय पाकिस्तान के पंजाब में …

गुलजार की दो लाइन शायरी | Gulzar Two Line Shayari Read More »

रक्षाबंधन पर शायरी :- राखी पर भाई और बहन की शायरी

रक्षाबंधन पर कविता

0 रक्षाबंधन पर शायरी रिश्ते तो कई होते हैं दुनिया में लेकिन एक रिश्ता बहुत ही खास होता है। ये रिश्ता है भाई और बहन का। भाई और बहन चाहे कितनी ही दूर क्यों न हों। उनके बीच का प्यार कभी कम नहीं होता। माँ के बाद बहन ही होती है जो एक आदमी के …

रक्षाबंधन पर शायरी :- राखी पर भाई और बहन की शायरी Read More »

हिंदुस्तान पर कविता :- हिंदुस्तान में | Hindustan Par Kavita Poem In Hindi

हिंदी कविता भारती जय भारती

+1 हमारा देश सभी देशों से अलग है और इसका कारन है यहाँ की एकता, मानवता और सुन्दरता। हिंदुस्तान जहाँ मेहमान को भगवान माना जाता है और सभी लोग आपस में मिल जुल कर रहते हैं। ऐसे ही हिंदुस्तान के चित्र को उतारने की कोशिश की है मैंने अपनी इस ( Hindustan Par Kavita ) …

हिंदुस्तान पर कविता :- हिंदुस्तान में | Hindustan Par Kavita Poem In Hindi Read More »