Waqt Shayari 2 Lines In Hindi | Best Bura Waqt Shayari | वक्त शायरी

आप पढ़ रहे हैं  Waqt Shayari 2 Lines ( वक्त शायरी ) :-

Waqt Shayari 2 Lines
वक्त शायरी

Waqt Shayari 2 Lines

मेहरबाँ हो के बुला लो मुझे चाहो जिस वक़्त
मैं गया वक़्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूँ

– मिर्ज़ा ग़ालिब


वक़्त से लम्हा लम्हा खेली है
ज़िंदगी इक अजब पहेली है

– अमीता परसुराम मीता


वक़्त आराम का नहीं मिलता
काम भी काम का नहीं मिलता

– मुज़्तर ख़ैराबादी


वक़्त बर्बाद करने वालों को
वक़्त बर्बाद कर के छोड़ेगा

– दिवाकर राही


वक़्त-ए-रुख़्सत आ गया दिल फिर भी घबराया नहीं
उस को हम क्या खोएँगे जिस को कभी पाया नहीं

– परवीन शाकिर


वक़्त और हालात पर क्या तब्सिरा कीजे कि जब
एक उलझन दूसरी उलझन को सुलझाने लगे
( तब्सिरा = समीक्षा )

– चन्द्रभान ख़याल


वक़्त के साथ बदलना तो बहुत आसाँ था
मुझ से हर वक़्त मुख़ातिब रही ग़ैरत मेरी

– अमीर क़ज़लबाश


वक़्त की मौज हमें पार लगाती कैसे
हम ने ही जिस्म से बाँधे हुए पत्थर थे बहुत

– जलील हैदर लाशारी


ये वक़्त किस की रऊनत पे ख़ाक डाल गया
ये कौन बोल रहा था ख़ुदा के लहजे में

– इफ़्तिख़ार आरिफ़


तब हम दोनों वक़्त चुरा कर लाते थे
अब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती है

– जावेद अख़्तर


वक़्त देता है जो पहचान तो ये देखता है
किस ने किस दर्द में दिल की ख़ुशी रक्खी हुई है

– जलील ’आली’


हाँ मुझ पे सितम भी हैं बहुत वक़्त के लेकिन
कुछ वक़्त की हैं मुझ पे इनायात वो तुम हो

– ज़िया जालंधरी


पलट चलें कि ग़लत आ गए हमीं शायद
रईस लोगों से मिलने के वक़्त होते हैं

– अज़हर इनायती


हम तोहफ़े में घड़ियाँ तो दे देते हैं
इक दूजे को वक़्त नहीं दे पाते हैं

– फरीहा नक़वी


वो ज़हर देता तो सब की निगह में आ जाता
सो ये किया कि मुझे वक़्त पे दवाएँ न दीं

– अख़्तर नज़्मी


पढ़िए :- वक्त पर कविता | कुछ खोया मिलाना है


Bura Waqt Shayari 2 Lines


कोई महफ़िल से उठ कर जा रहा है
सँभल ऐ दिल बुरा वक़्त आ रहा है

– सुहैल अज़ीमाबादी


अच्छे-ख़ासे लोगों पर भी वक़्त इक ऐसा आ जाता है
और किसी पर हँसते हँसते ख़ुद पर रोना आ जाता है

– अज़हर फ़राग़


वक़्त अच्छा ज़रूर आता है
पर कभी वक़्त पर नहीं आता

– परवेज़ साहिर


वक़्त भी अब मिरा मरहम नहीं होने पाता
दर्द कैसा है जो मद्धम नहीं होने पाता

– सरवत ज़ेहरा


तू ने ऐ वक़्त पलट कर भी कभी देखा है
कैसे हैं सब तिरी रफ़्तार के मारे हुए लोग

– मिर्ज़ा अतहर ज़िया


कलेजा रह गया उस वक़्त फट कर
कहा जब अलविदा उस ने पलट कर

– पवन कुमार


वक़्त के साथ ‘सदा’ बदले तअल्लुक़ कितने
तब गले मिलते थे अब हाथ मिलाया न गया

– सदा अम्बालवी


किसी भी वक़्त बदल सकता है लम्हा कोई
इस क़दर ख़ुश भी न हो मेरी परेशानी पर

– जमाल एहसानी


अब तो हर वक़्त वही इतना रुलाता है मुझे
जिस को जाते हुए मैं देख के रो भी न सका

– कामिल अख़्तर


शाम को जिस वक़्त ख़ाली हाथ घर जाता हूँ मैं
मुस्कुरा देते हैं बच्चे और मर जाता हूँ मैं

– राजेश रेड्डी


वक़्त ख़ुश ख़ुश काटने का मशवरा देते हुए
रो पड़ा वो आप मुझ को हौसला देते हुए

– रियाज़ मजीद


दुख कटे ज़हमत कटे कट जाए बद-हाली सभी
वक़्त काटे ना कटे तो क्या करें किस से कहें

– जतीन्द्र वीर यख़मी ’जयवीर


पढ़िए :- Samay Par Kavita | समय पर कविता


Waqt Shayari Attitude

वक़्त आने दे दिखा देंगे तुझे ऐ आसमाँ
हम अभी से क्यूँ बताएँ क्या हमारे दिल में है

– बिस्मिल अज़ीमाबादी


आख़िरी वक़्त तलक साथ अंधेरों ने दिया
रास आते नहीं दुनिया के उजाले मुझ को

– दानिश अलीगढ़ी


ख़ुद चराग़ बन के जल वक़्त के अंधेरे में
भीख के उजालों से रौशनी नहीं होती

– हस्तीमल हस्ती


डाल दी पैरों में उस शख़्स के ज़ंजीर यहाँ
वक़्त ने जिस को ज़माने में उछलते देखा

– क़ैसर ख़ालिद


पढ़िए :- बदलते समय पर कविता | समय का पहिया घूम रहा है


“ वक्त पर शायरी ” ( Waqt Shayari 2 Lines In Hindi ) में आपको सबसे बढ़िया शेर कौन सा लगा ? कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.