Home » बिसेन कुमार यादव

बिसेन कुमार यादव

बिसेन कुमार यादव जी ने गाँव-दोन्देकला, रायपुर, छत्तीसगढ़ में रहते है। इन्हें अलग-अलग विषयों पर कविताएं लिखने का शौक है।

हिंदी कविता चन्दा मामा | Hindi Kavita Chanda Mama

हिंदी कविता चन्दा मामा

0 आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता चन्दा मामा :- हिंदी कविता चन्दा मामा चंदा मामा चन्दा मामा चन्दा मामा! अब तो सूरज ढल गयी है निकलो मामा!! चंदा मामा चन्दा………..! आसमान में घना अंधेरा छाया देखो! निशा ने घनघोर अंधेरा लाया देखो!! चंदा मामा चन्दा……..! गोल-मटोल चेहरा अपना दिखलाओ मामा! नभ में शीतल आभा …

हिंदी कविता चन्दा मामा | Hindi Kavita Chanda Mama Read More »

शादी पर हास्य कविता :- शादी मत करना

बेटी पर हिंदी कविता

+12 आप पढ़ रहे हैं ( Shaadi Par Hasya Kavita ) शादी पर हास्य कविता :- शादी पर हास्य कविता पते की बात मैं सबको बता रहा हूँ, शादी मत करना मैं सबको चेता रहा हूँ। शादी करके मैं अब तक पछता रहा हूँ, इसलिए सबको अपना किस्सा सुना रहा हूँ। जींस पहनो या पहन …

शादी पर हास्य कविता :- शादी मत करना Read More »

कविता उसने मेरा नाम पूछा | Usne Mera Naam Puchha

हिंदी कविता अभिलाषा 

+4 आप पढ़ रहे हैं कविता उसने मेरा नाम पूछा :- कविता उसने मेरा नाम पूछा पड़ोस के मकान में रहने के लिए, एक विदूषक व्यक्ति आया था! याद है शायद उसने मुझे , अपना नाम नरेश शर्मा बताया था!! जो जरूरी था वो हमसे पूछना भूल गए! हम भी अपना नाम बताना भूल गए!! …

कविता उसने मेरा नाम पूछा | Usne Mera Naam Puchha Read More »

वर्षा पर कविता :- आसमान पर बादल आए

वर्षा पर कविता

+2 कैसे बारिश के मौसम में जब बादल की काली घटा छाती है और गर्मी से राहत मिलती है आइये जानते हैं वर्षा पर कविता में :- वर्षा पर कविता आसमान पर बादल आए! काले-काले बादल छाए! लगते कितने खुब निराले! देखो आसमान पर बादल काले!! छम -छम नाच दिखाने आए! बादल हमको भिगाने आए!! …

वर्षा पर कविता :- आसमान पर बादल आए Read More »

पावस ऋतु पर कविता :- श्यामल काली घटा | Pavas Ritu Par Kavita

वर्षा पर कविता

+4 बारिश की रिमझिम बूंदों के दृश्य का वर्णन करती पावस ऋतु पर कविता ” श्यामल काली घटा ” :- पावस ऋतु पर कविता मैं देख दंग रह गया छवि छटा! नीलनभ में श्यामल काली घटा!! मानो वह वर्षासुन्दरी की आँखो की हो काजल ! उसे देख मन मेरा हो रहा है पागल!! समीर- सागर …

पावस ऋतु पर कविता :- श्यामल काली घटा | Pavas Ritu Par Kavita Read More »

बाल कविता नाव चली | Bal Kavita Naav Chali

बाल कविता नाव चली

+5 बारिश में अकसर बच्चे कागज़ की नाव बना कर पानी में चलाते हैं। कैसा होता है वह दृश्य आइये पढ़ते हैं बाल कविता नाव चली ( Bal Kavita Naav Chali ) में :- बाल कविता नाव चली बादल चले गए काला-काला! आसमान हो गए, नीला-नीला! अरे चंदा सुनो माला! घर से निकलो चलो नाला! …

बाल कविता नाव चली | Bal Kavita Naav Chali Read More »

लोरी बेटी के लिए :- सो जा मेरी राजकुमारी

लोरी बेटी के लिए

+2 लोरी बेटी के लिए ” सो जा मेरी राजकुमारी ” :- लोरी बेटी के लिए सो जा मेरी राजकुमारी।‌ सो जा मेरी राजदुलारी।। सो जा , सो जा बिटिया मेरी‌। अब तो सो जा मुनिया मेरी।। सो जा मेरी, न्यारी बेटी‌। मेरी नन्ही, प्यारी बेटी‌।। सो जा मेरी आराध्या बेटी। सो जा मेरी काव्या …

लोरी बेटी के लिए :- सो जा मेरी राजकुमारी Read More »

बारिश पर कविता :- सुन वर्षा रानी | Barish Par Kavita

वर्षा पर कविता

+1 आप पढ़ रहे हैं ( Barish Par Kavita ) बारिश पर कविता “सुन वर्षा रानी” :- बारिश पर कविता सुन वर्षा रानी ! तुम गिराओ पानी!!?1) गड़ गड़ बादल गरजाओ! चम-चम तुम चपला चमकाओ!!(2) मेघराज में विचरण करते आओ! संग बून्दो की बरात लाओ!! बन- ठन सज सँवर के बलखाते आओ! श्यामल-श्यामल ओढ़नी लहराते …

बारिश पर कविता :- सुन वर्षा रानी | Barish Par Kavita Read More »

गौरैया पर कविता :- प्यारी गौरैया | Sparrow Poem In Hindi

चिड़िया पर कविता

+15 गौरैया पर कविता ओ मेरी प्यारी गौरैया, तुम हमसे रूठ ना जाओ! ओ मेरी सोनचिरैया तुम हमसे दूर ना जाओ, बस मेरी इतनी है विनती अब तो घर आ भी जाओ, ओ मेरी नन्ही चिड़िया तुम घर लौट आओ! उषा की लाली जब निकली थी, आकर द्वार- द्वार पर तुम रोज फुदकती थी, अब …

गौरैया पर कविता :- प्यारी गौरैया | Sparrow Poem In Hindi Read More »

विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी कविता | 5 जून पर विशेष कविता

हिंदी कविता अलौकिक सौंदर्य

+6 विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी कविता धरती की हरियाली को तूने लूटा है, बताओ कितने जंगल को तूने काटा हैं! वनो में अब न गुलमोर न गूलर खड़ी है, हरी- भरी धरती हमारी बंजर पड़ी है! क्या खाओगे बोलो और क्या साँस लोगे! अगर ये जंगल नहीं रहेगा तो तुम भी कहाँ रहोगे! जहर …

विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी कविता | 5 जून पर विशेष कविता Read More »

भ्रूण हत्या पर कविता | Bhrun Hatya Kavita In Hindi

भ्रूण हत्या पर कविता

+8 भ्रूण हत्या पर कविता माँ मुझे भी जीने की लालसा है! मेरी भी कुछ अभिलाषा है! मैं भी नभ के तारे बन चाहती हूँ दमकना! मैं भी सूरज बन नभ में चाहती हूँ चमकना! मुक्तगगन में पंख लगाकर उड़ना चाहती हूँ! माँ मैं भी इस जग में जन्म लेना चाहती हूँ! मैं तुम्हारी प्यारी …

भ्रूण हत्या पर कविता | Bhrun Hatya Kavita In Hindi Read More »

नाक पर कविता :- नाकों की दुनिया | Poem On Nose

नाक पर कविता

+37 आप पढ़ रहे हैं ( Poem On Nose ) नाक पर कविता :- नाक पर कविता किसी की नाक पतली तो किसी की मोटी! नाकों की दुनिया भी अजीब अनूठी!! चोंच की तरह नुकीली तो किसी की चपटी नाक! किसी की बड़ी तो किसी की छोटी नाक!! किसी की होती है मोटी, चौड़ी नाक! …

नाक पर कविता :- नाकों की दुनिया | Poem On Nose Read More »