वर्षा पर कविता :- आसमान पर बादल आए

2+

कैसे बारिश के मौसम में जब बादल की काली घटा छाती है और गर्मी से राहत मिलती है आइये जानते हैं वर्षा पर कविता में :-

वर्षा पर कविता

वर्षा पर कविता

आसमान पर बादल आए!
काले-काले बादल छाए!

लगते कितने खुब निराले!
देखो आसमान पर बादल काले!!

छम -छम नाच दिखाने आए!
बादल हमको भिगाने आए!!

खूब नाचते,इतराते आए!
झम झम बारिस बरसाते आए!!

ढ़ोल नंगाढ़ा बजाते आए!
चम-चम बिजली गाते आए!!

झन-झन झिंगुर मचाए सोर !
झुम-झुम के नाचे मोर !

हम घर से पकौड़ी खाके आए!
चाय की चुस्की पी के आए!

बारिश में फिर आ जाओ मोनू!
तुम भी नाच दिखाओ सोनू!

नाचे कूदे धूम मचाए!
बारिश में फिर चलो नहाए!!

खेले-कूदे ,नाचे मिलकर गाए!
घोर-घोर रानी गीत गुनगुनाए!

पढ़िए :- बारिश पर कविता “सुन वर्षा रानी”


बिसेन कुमार यादव

यह कविता हमें भेजी है बिसेन कुमार यादव जी ने गाँव-दोन्देकला, रायपुर, छत्तीसगढ़ से।

“ वर्षा पर कविता ” ( Varsha Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

2+

Leave a Reply