समय पर दोहे :- समय पर आधारित 10 दोहे | Samay Par Dohe

0

हमारे जीवन में समय का बहुत महत्त्व होता है। जो व्यक्ति समय की क़द्र नहीं करता उसे आगे चल कर बहुत पछताना पड़ता है। उसका जीवन कठिनाइयों के बीच गुजरता है। ऐसे में ज्ञान की बात यही है कि समय रहते समय का सदुपयोग किया जाए। जिससे हमारा जीवन सही मार्ग पर रहे और हम अपने लक्ष्य को जल्दी प्राप्त कर पाएं। इसी संदर्भ में हम आपके लिए लेकर आये हैं संदीप कुमार सिंह के लिखे यह समय पर दोहे :-

समय पर दोहे

समय पर दोहे

1.
जीवन में यदि चाहिए, सुख सुविधा सम्मान।
सारे आलस त्याग कर, करें समय पर काम।।

2.
इसके साथी को सदा, मिलता है सम्मान।
रोके से रुकता नहीं, समय बड़ा बलवान।।

3.
समय संग जो है चला, सफल हुआ इन्सान।
जग में उसको मिल गयी, एक अलग पहचान।।

4.
करने से पहले सदा, कर लें सोच विचार।
नहीं कभी फिर लौटता, गया समय इक बार।।

5.
सफल हुए हैं जो सभी, कहते हैं वे लोग।
अपने जीवन में करो, समय का सदुपयोग।।

6.
मोल समय का जानता, कर्म जो करता आज।
करता वही भविष्य में, इस दुनिया पर राज।।

7.
शिक्षक जग में हैं नहीं, कोई समय समान।
यह अनुभव के रूप में, देता हमको ज्ञान।।

8.
अनुशासन में रह सदा, बनो समय के शिष्य।
जीवन में खुशियाँ मिलें, स्वर्णिम बने भविष्य।।

9.
मानव जीवन में समय, जैसे सरिता धार।
कभी न वापस लौटती, चली गयी इक बार।।

10.
यदि समय पर नहीं किया, जीवन में कुछ ख़ास।
मजबूरी में फिर सदा, बने रहोगे दास।।

– संदीप कुमार सिंह

पढ़िए :- बदलते समय पर कविता | समय का पहिया घूम रहा है

“ समय पर दोहे ” ( Samay Par Dohe ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply