चिड़िया पर कविता – ओ री चिड़िया | Poem On Bird In Hindi

5+

चिड़िया पर कविता ( Chidiya Par Kavita ) प्रिय पाठकों जीवन में सीखने के लिए कोई उम्र नहीं होती है, जब मन करे, जहाँ मन करे, जिससे भी हो छोटे से या बड़े से, जहाँ कहीं भी ज्ञान और कुछ सीखने को मिले हमें सीख लेना चाहिए। इसी प्रकार से हमें अपने आस-पास की सारी चीजों, जीव-जंतुओं,पशु-पक्षियों से भी मनोरंजन करते हुवे उनके जीवन जीने की शैली से कुछ न कुछ  प्रेरणा लेने की आवश्यकता होती है।आइये पढ़ते हैं चिड़िया पर कविता – ओ री चिड़िया और कुछ प्रेरणा उनसे भी लें जो हम जैसे नहीं हैं।

चिड़िया पर कविता

 

चिड़िया पर कविता

ओ री चिड़िया ओ री चिड़िया
तुम हो बड़ी सयानी चिड़िया।
मखमल पंख तुम्हारे न्यारे।
लगते हो तुम सबको प्यारे।

इंद्रधनुष रंग तुमको भाता
नील गगन से क्या है नाता।
तुम पर नहीं है वश हमारा।
लगता गगन भी है तुम्हारा।

जहाँ कहे मन वहां हो जाते।
चाहकर भी हम रोक न पाते।
फर फर फर उड़ती हो तुम।
तुमसे नहीं डरते हैं हम।

जब भी कोई संकट आता।
कल कल का शोर उमड़ता।
जब रहती तुम पास हमारे।
आसान लगते काम सारे।

बच्चों खातिर लाती खाना।
करती नहीं हो कोई बहाना।
घूम-घूम कर जब हो आती।
चोंच में रखकर दाना लाती।

चीं-चीं-चूँ-चूँ बच्चे करते।
मुहँ में दाना जब उनके रखते।
लड़ते नहीं आपस में तुम
रखते नहीं हो कोई अहम।

मानव देखो खेल रचाता।
आपस में ही लड़ता लड़ाता।
दुर्योधन तुममे नहीं हैं होते।
अपने कुल को कभी न खोते।

आखेटक ने जब जाल बिछाया।
समूह तुम्हारा नहीं घबराया।
मिलकर सबने जाल उड़ाया।
एकता का तब पाठ पढ़ाया।

कौवा जब था कंकड़ लाया।
घड़े में जल तब ऊपर आया।
जैसा वातावरण हो मिलता।
अनुकूल तुम्हारा शरीर ढलता।

तृण-तृण तुम ढूंढ कर लाते।
अपने घर को मजबूत बनाते।
दूजे घर में कभी न झांकते।
अपने बच्चों को ही ताकते।

ऊंच नीच का भेद न कोई।
एक धर्म ही सबका होई।
इस या उस जन्म का हमसे।
लगता कोई नाता हो तुमसे।

कपट द्वेष न आता तुमको।
अच्छी सीख देते हो हमको।
पर जो भी हो तुम सच्ची हो।
दुनियां में सबसे अच्छी हो।

यह भी पढ़ें – पिता पर कविता ( बाल कविता ) – बच्चे की जिद-पिता की ख़ुशी


मेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

“  चिड़िया पर कविता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ  hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

 

5+

7 Comments

  1. Avatar prakash
  2. Avatar Harish chamoli
  3. Avatar Pushpa
  4. Avatar sakya
  5. Avatar sakya
  6. Avatar Harish chamoli

Leave a Reply