चिड़िया पर कविता – ओ री चिड़िया | Chidiya Poem In Hindi

+11

पंछी अपने जीवन से मनुष्य को बहुत सारी सीख देते हैं। उनमें जरा भी आलास नहीं होता है। वे अपना हर काम समय से करती हैं। इसी सन्दर्भ में आज प्रस्तुत हैं ( Chidiya Par Kavita ) “ चिड़िया पर कविता – ओ री चिड़िया ओ री चिड़िया ”

चिड़िया पर कविता

Chidiya Par Kavita | चिड़िया पर कविता ( ओ री चिड़िया ) | Bird Poem In Hindi

ओ री चिड़िया ओ री चिड़िया।
तुम हो बड़ी सयानी चिड़िया।
मखमल पंख तुम्हारे न्यारे।
लगते हो तुम सबको प्यारे।

इंद्रधनुष रंग तुमको भाता।
नील गगन से क्या है नाता?
तुम पर नहीं है वश हमारा।
लगता है यह गगन तुम्हारा।

जहाँ कहे मन वहां हो जाते।
चाहकर भी हम रोक न पाते।
फर फर जब उड़ती हो तुम।
देख के खुश हो जाते हम।

जब भी कोई संकट आता।
कल कल का शोर उमड़ता।
जब रहती तुम पास हमारे।
आसान लगते काम सारे।

बच्चों खातिर लाती खाना।
करती नहीं हो कोई बहाना।
घूम-घूम कर जब हो आती।
चोंच में रखकर दाना लाती।

चीं-चीं-चूँ-चूँ बच्चे करते।
मुहँ में दाना उनके रखते।
लड़ते नहीं आपस में तुम
रखते नहीं हो कोई अहम।

मानव देखो खेल रचाता।
आपस में ही लड़ता लड़ाता।
दुर्योधन तुममे नहीं हैं होते।
अपने कुल को कभी न खोते।

आखेटक ने जाल बिछाया।
समुहँ तुम्हारा नहीं घबराया।
मिलकर सबने जाल उड़ाया।
एकता का तब पाठ पढ़ाया।

कौवा जब था कंकण लाया।
घड़े में जल तब ऊपर आया।
जैसा वाता वरण हो मिलता।
अनुकूल तुम्हारा शरीर ढलता।

तृण-तृण हो ढूंढ कर लाते।
अपने घर मजबूत बनाते।
दूजे घर में कभी न झांकते।
अपने बच्चों को ही ताकते।

ऊंच नीच का भेद न कोई।
एक धर्म ही सबका होई।
जाने कौन जन्म का हमसे।
लगता कोई नाता हो तुमसे।

कपट द्वेष न आता तुमको।
अच्छी सीख देते हो हमको।
चिड़िया रानी तुम सच्ची हो।
दुनिया में सबसे अच्छी हो।

यह भी पढ़ें – गौरैया पर कविता “ओ मेरी प्यारी गौरैया”


हरीश चमोली

मेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

“ चिड़िया पर कविता ” ( Chidiya Poem In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

 

+11
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

7 thoughts on “चिड़िया पर कविता – ओ री चिड़िया | Chidiya Poem In Hindi”

  1. Avatar

    धन्यवाद प्रकाश जी, स्नेह बनाये रखें।

    हरीश चमोली

    0
    1. Avatar

      इस कविता के लेखक का नाम और डिटेल कविता के नीचे लिखा है…. आप वहां से पढ़ सकते हैं

      +2
  2. Avatar

    धन्यवाद आदरणीय, आप मेरी डिटेल कविता के नीचे परिचय से ले सकते हैं।

    हरीश चमोली

    0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *