जन्माष्टमी महोत्सव पर कविता | Janmashtami Mahotsav Par Kavita

आप पढ़ रहे हैं जन्माष्टमी महोत्सव पर कविता :-

जन्माष्टमी महोत्सव पर कविता

जन्माष्टमी महोत्सव पर कविता

गोपियों के संग रास रचैया
तुम हो मेरे किशन कन्हैया।
तेरे आराधक तेरे बुला रहे हैं
चले आओ मेरे साॅंवरिया।।

मीरा के प्रभु गिरधर नागर।
राधा के तुम हो मुरलीधर।।

मेरे लिए तो तुम श्रीराम हो।
और तुम ही मेरे घनश्याम हो।।

प्यासे इन नयनों को
प्यास बुझाने आओ।
मन हो जाए प्रफुल्लित
ऐसी बंशी बजाओ।।

एक बार आओ कान्हा
बांसुरी की स्वर में हम सबको नचाने।
या फिर बनकर आओ राम
हम सबको मर्यादा सिखाने।।

भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष
दिन अष्टमी को श्याम रूप में आओ।
या फिर चैत्र मास शुक्लपक्ष
नवमी को श्रीराम बन आओ।।

श्रीराम मेरे घनश्याम मेरे।
रटू नाम सुबह-शाम तेरे।।

राधारमण हरे श्रीकृष्ण हरे।
मैं नित्य पखारू चरण तेरे।।

तूम प्रेम रंग में मुझको रंग दे।
अंग-अंग में प्रीत के रंग भर दे।।

मीरा नहीं हूॅं मैं,न मैं राधा हूॅं, मैं तुम्हारी दासी हूॅं।
सांवरे-सलोने मैं तुम्हारी प्रेम की प्यासी हूॅं।।

आओ नंदलाला मेरे मनमोहना।
मेरी आराधना तुम सुन लो ना।।

तुम्हें पुकारू हे गोविन्दा,हे गोपाला।
सुन लो पुकार मेरी हे बांसुरी वाला।।

तूने वादा किया था जब-जब पाप बढ़ेगा मैं आऊंगा।
अत्याचारी, पापी,अंहकारी दुष्टों का सर्वनाश करुंगा।।

हमारी रक्षा करने तुमआओ दाता।
हे जगतगुरु, श्रीहरि हे मेरे विधाता।।

मुझ मूढ़,अभागा पर उपकार करो।
दुःख , पीड़ा,कष्ट, संकट मेरे दूर करो।।

इस भयंकर प्रलयकारी संकट से हमें उबारो।
हे सुदर्शन धारी रक्षा करो हमारी रक्षा करो।‌।

हे पालनकर्ता हे पालन हार।
हे दुःख हर्ता,हे मुरलीधर।।

दिन-दिन ले रही है,जान हमारी।
चुन-चुन के ले रही है, प्राण हमारी।।

रोको-रोको बढ़ रही है, विपत्ति भारी।
आओ-आओ हे नाथ,हे गिरधारी।।

पापी महामारी का, सर्वनाश करो अंतर्यामी।
अधर्मी,अनाचारी का विनाश करो मेरे स्वामी।।

पढ़िए :- बाल कृष्ण पर कविता | Poem On Bal Krishna In Hindi


बिसेन कुमार यादव

यह कविता हमें भेजी है बिसेन कुमार यादव जी ने गाँव-दोन्देकला, रायपुर, छत्तीसगढ़ से।

“ जन्माष्टमी महोत्सव पर कविता ” ( Janmashtami Mahotsav Par Kavitan Hindi ) आपको कैसी लगी? जन्माष्टमी महोत्सव पर कविता के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.