Home » पृथ्वी दिवस

पृथ्वी दिवस

धरती पर कविता :- धरती मानव की जान है | Dharti Par Kavita

छाया वसुधा पर विकट अंधेरा

+3 धरती पर कविता धरती मानव की जान है समाया इसमें जहान है, प्रकृति सुख हमको देती महिमा सबसे महान हैं। मानव को पुत्र मानकर एक जैसा सबसे करती प्यार, अनाज का भरके भंडार कृपा करती हैं बार बार। वृक्षों की छाया में राही अपनी थकान को देता आराम, फल खाकर व पानी पीकर मधुर …

धरती पर कविता :- धरती मानव की जान है | Dharti Par Kavita Read More »

धरती माँ पर कविता :- माँ वेंटीलेटर पर | Dharti Maa Par Kavita

छाया वसुधा पर विकट अंधेरा

+20 धरती माँ की बिगड़ती हालत पर ( Dharti Maa Par Kavita In Hindi ) धरती माँ पर कविता ” माँ वेंटीलेटर पर है ” धरती माँ पर कविता शांत है धरा, गगन भी है चुप खड़ा, पेड़-पौधे,पत्ते सांस लेते दिख रहे खुलकर पक्षी गा रहे, हवा में सब नाच रहे नागिन सी नदियाँ ,कर …

धरती माँ पर कविता :- माँ वेंटीलेटर पर | Dharti Maa Par Kavita Read More »

प्रकृति प्रेम पर हिंदी कविता | Prakriti Prem Par Hindi Kavita

हिंदी कविता जिंदगी का कारवां

+4 कुदरत से प्यार करने का संदेश देती ( Prakriti Prem Par Kavita In Hindi ) प्रकृति प्रेम पर हिंदी कविता ” प्रकृति-प्रेम जगाना सीखो ” :- प्रकृति प्रेम पर हिंदी कविता कभी बोकर देखो,एक बीज,अपने घर के आँगन में। प्रकृति-प्रेम जगाना सीखो,अपने-अपने आचरण में। आसान नहीं कोई अंकुर उगाना,बंजर किसी धरती पर एक बीज …

प्रकृति प्रेम पर हिंदी कविता | Prakriti Prem Par Hindi Kavita Read More »

धरती बचाओ पर कविता – वसुधा ने संपर्क किया

हिंदी कविता अलौकिक सौंदर्य

+21 आप पढ़ रहे हैं ( Dharti Bachao Par Kavita ) धरती बचाओ पर कविता ” वसुधा ने संपर्क किया ” :- धरती बचाओ पर कविता वसुधा ने संपर्क किया नभ से मानव बने प्रकृति के भक्षक हैं, ह्रदय से आग्रह है तुमसे आगमन करो आप सर्वश्रेष्ठ शिक्षक हैं। उड़ने वाले खग अम्बर से अनमोल …

धरती बचाओ पर कविता – वसुधा ने संपर्क किया Read More »

पृथ्वी दिवस पर छोटी कविता – वसुधा में स्वर्ग निहित है प्यारे

छाया वसुधा पर विकट अंधेरा

+1 आप पढ़ रहे हैं ( Short Poem On Earth Day In Hindi ) पृथ्वी दिवस पर छोटी कविता ” वसुधा में स्वर्ग निहित है प्यारे ” पृथ्वी दिवस पर छोटी कविता वसुधा में स्वर्ग निहित है प्यारे स्वीकायें इस अमूल्य संदेश को, मूक बिटपों को काटकर न नष्ट करो प्रकृति के मनमोहक भेष को। …

पृथ्वी दिवस पर छोटी कविता – वसुधा में स्वर्ग निहित है प्यारे Read More »

पृथ्वी दिवस पर कविता – धरा हमारी माता है | Prithvi Par Kavita

छाया वसुधा पर विकट अंधेरा

+5 हर वर्ष 22 अप्रैल को दुनिया भर में पर्यावरण संरक्षण के लिए सबको जागरूक करने के लिए पृथ्वी दिवस का आयोजन किया जाता है। पृथ्वी दिवस की स्थापना अमेरिकी सीनेटर जेराल्ड नेल्सन ने 1970 में एक पर्यावरण शिक्षा के रूप की थी। अब इसे 192 से अधिक देशों में प्रति वर्ष मनाया जाता है। …

पृथ्वी दिवस पर कविता – धरा हमारी माता है | Prithvi Par Kavita Read More »