नारी सम्मान पर कविता :- नारी सम्मान का पाठ

हमारे समाज में नारी को किस नजर से देखा जाता है इसी विषय पर आधारित है यह ( Nari Samman Par Kavita ) नारी सम्मान पर कविता :-

नारी सम्मान पर कविता

नारी सम्मान पर कविता

नारी सम्मान का पाठ
कब हम जीवन की
पुस्तक में लाएंगे,
होता रहा जो सदियों से अब तक
उसे क्या कभी नहीं बदल पाएंगे।

द्रौपदी के चीर हरण औ ‘
निर्भया के बलात्कार ने
साबित कर दिखाया है,
हर सदी में पुरुष ने नारी को बस
इक भोग की वस्तु ही
समझ पाया है।

पुरूष के जीवन का
हर इक कोना महकाती नारी,
उसके हृदय की बगिया में
प्रेम पुष्प भी खिलाती नारी।

कोख से लेकर शोक तक
हर पल में साथ निभाती नारी,
माँ, बहन, बेटी, पत्नी
हर भूमिका में रम जाती नारी।

अपने घर को छोड़
पुरूष के घर को संभालती नारी,
अपने स्नेह की खुश्बू बिखेर
मकान को घर बनाती नारी।
फिर उसे क्यों
तुच्छ समझा जाता है,
अर्धांगिनी बन कर भी क्यों
सम्मान उसका वंचित रह जाता है।

कहने को तो अब
हर क्षेत्र में नारी है,
किन्तु पुरूष की समझ का
बहुत सा कोना
उसके लिए खाली है।

पढ़िए :- नारी पर कविता “हे नारी तू महान है”


रचनाकार का परिचय

वंदना अग्रवाल निरालीनाम – वंदना अग्रवाल निराली
पता – लखनऊ, उत्तर प्रदेश

वंदना जी एक पत्नी, गृहिणी, माँ, बहु और शिक्षिका हैं। इन्हें कविताएँ लिखने और पढ़ने का शौक है। इनकी कविता रूपायन पत्रिका और दूसरी वेबसाइट पर भी प्रकाशित होती रही है।

“ नारी सम्मान पर कविता ” ( Nari Samman Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

1 thought on “नारी सम्मान पर कविता :- नारी सम्मान का पाठ”

  1. Shyam bildani 'sadhgi 'Badnera.Amravati(Maharashtra)Mo-9420400580

    Vandna ji naari par aapne bahut hi khoobsurat aur umda rachna likhi hain.aapki rachna ke liye mere tahedil se bahut bahut shubhkamnye. Maggesa milte hi jawaab ka intzaar rahenga.main bi ek kavi hu.is blog par kush rachnaye beji hain.jarur like karna.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *