बूढ़ी माँ पर मार्मिक कविता – एक घर में बूढ़ी माँ | Budhi Maa Par Marmik Kavita

0

 (Budhi Maa Par Marmik Kavita ) बूढ़ी माँ पर मार्मिक कविता :- प्रिय पाठकों, माँ के चरणों में स्वर्ग होता है हमने सूना है किन्तु यह बातें शायद फिल्मों में या किताबों तक ही रह गयी हैं। हमारे समाज की कितनी बड़ी बिडम्बना है कि जिस माँ ने जन्म दिया, अपने बच्चों को अपनी ममता के साए में पाल पोश कर बड़ा किया।वही बच्चे जब पढ़ लिखकर बड़े हो जाते हैं। ऐसी ही एक बूढ़ी माँ की हालत को समर्पित है यह कविता :-

बूढ़ी माँ पर मार्मिक कविता
बूढ़ी माँ पर मार्मिक कविता

एक घर में बूढ़ी माँ दिन रात रोती हैं।
अपने ही अश्कों  से दामन वो भिगोती है।।
एक घर में बूढ़ी माँ दिन रात रोती हैं।

क्या जुल्म करते है
उस पर उसके अपने,
हो गये चूर उसके
जितने भी सजे सपने,
अब अपना भी बोझा वो तन्हा ढोती है।
एक घर में बूढ़ी माँ दिन रात रोती है।।

कुछ कैसे कहे किसको
किसे दर्द सुनाये वो,
जख्म मिले जो उसको
किसे जा के दिखाये वो,
चौका बर्तन संग में कपड़े भी धोती है।
एक घर में बूडी माँ दिन रात रोती है।।

अजब खेल है मालिक
इस तेरे जमाने का,
क्या हक़ नहीं है उसको
हक़ अपना पाने का,
बस बेटो की खुशियां हरपल संजोती है
एक घर में बूढ़ी माँ दिन रात रोती है।

एक घर में बूढ़ी माँ दिन रात रोती हैं।
अपने ही अश्कों से दामन वो भिगोती है।
एक घर में बूढ़ी माँ दिन रात रोती हैं।

यह भी पढ़िए- माँ पर दो लाइन शायरी – माँ के लिए स्टैट्स और कोट्स


रचनाकार का परिचय –
नाम- अनमोल रतन (श्रृंगार रस कवि)
पता – रायबरेली, उत्तर प्रदेश

तो बताईये की आपको “ बूढ़ी माँ पर मार्मिक कविता ” ( Budhi Maa Par Marmik Kavita ) कैसी लगी ? यदि आप भी अपनी रचना हमारे साथ बाँटना चाहते हैं तो देर किसलिए उठाइये कलम ओर लिख डालिये अपने विचारों को अपने भावों में और नीचे दिए नम्बर पर एक फोटो और अपना परिचय सलंग्न करके हमें whatsapp द्वारा सूचित करें।

Mob- +919540270963
Mail ID- hindipyala@gmail.com
हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।


 

0

Leave a Reply