रेनू सिंघल

Kanha Ji Ka Bhajan | Beautiful Bhajan On Lord Krishna | कान्हा का भजन

Kanha Ji Ka Bhajan आप पढ़ रहे हैं  कान्हा का भजन ” मेरे घर कान्हा आओगे  “

Kanha Ji Ka Bhajan
कान्हा का भजन

Kanha Ji Ka Bhajan

मेरे घर कान्हा आओगे 
तुम राधा को भी संग लाना।
मैं प्रेम की पाती लिख दूँगी
तुम प्रेम सभी पर बरसाना।

जब माखन भर भर खाते हो
मुख पर तन पर लपटाते हो।
मैं माखन प्याला भर दूँगी
तुम भोग लगाने आ जाना। 

मेरे घर कान्हा आओगे….

जब मधुर मुरलिया बाजेगी
अधरों की कली खिल जाएगी।
सुध-बुध राधा बिसरायेगी
तुम गीत मिलन के तब गाना।

मेरे घर कान्हा आओगे….

जब पनघट पे चुपके राधा 
पनिया भरने को आएगी।
बाजेगी पायलिया छन से
तुम प्रेम गगरिया छलकाना।

मेरे घर कान्हा आओगे
तुम राधा को भी संग लाना।

मैं प्रेम की पाती लिख दूँगी
तुम प्रेम सभी पर बरसाना।
मेरे घर कान्हा आओगे 
तुम राधा को भी संग लाना।

पढ़िए :- कृष्ण प्रेम कविता | सुन कान्हा मेरी याद | Krishna Prem Kavita


Kanha Ji Ka Bhajan In English Font

Mere Ghar Kanha Aaoge
Tum Radha Ko Bhi Sang Lana,
Main Prem Ki Paat Likh Dungi
Tum Prem Sabhi Par Barsana.

Mere Ghar Kanha Aaoge
Tum Radha Ko Bhi Sang Lana.

Jab Makhan Bhar Bhar Khaate Ho
Mukh Par Tan Par Laptate Ho,
Main Makhan Pyala Bhar Dungi
Tum Bhog Lagane Aa Jana.

Mere Ghar Kanha Aaoge
Tum Radha Ko Bhi Sang Lana.

Jab Madhur Muraliya Bajegi
Adhron Ki Kali Khil Jaegi,
Sudh-Budh Radha Bisraayegi
Tum Geet Milan Ke Tab Gana.

Mere Ghar Kanha Aaoge
Tum Radha Ko Bhi Sang Lana.

Jab Panghat Pe Chupke Radha
Paniya Bharne Ko Aayegi,
Baajegi Payaliya Chhan Se
Tum Prem Gagariyaa Chhalkana.

Mere Ghar Kanha Aaoge
Tum Radha Ko Bhi Sang Lana.
Main Prem Ki Paat Likh Dungi
Tum Prem Sabhi Par Barsana.

पढ़िए :- श्री कृष्ण पर कविता | बसो मोरे हिरदे में गोपाल


रचनाकार का परिचय

रेनू सिंघल

मेरा नाम रेनू सिंघल है । मैं लखनऊ मे रहती हूँ। मुझे बचपन से लिखने का शौक है । कहानियां ,कवितायें, लेख , शायरियाँ लिखती हूँ पर विवाह के बाद पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते इस शौक को आगे नही बढ़ा पायी।

अब मैं लेखन की दिशा मे कार्य करना चाहती हूँ । अपनी खुद की एक पहचान बनाना चाहती हूँ जो आप सबके के सहयोग से ही संभव है। जीवन के प्रति सकारात्मक सोच और स्पष्ट नज़रिया रखते हुए अपनी कलम के जादू से लोगों के दिलों मे जगह बनाना मेरी प्राथमिकता है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप सभी का सहयोग अवश्य मिलेगा।

“ कान्हा का भजन ” ( Kanha Ji Ka Bhajan ) आपको  कैसा लगा? Kanha Ji Ka Bhajan के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email
Guru Mahima Par Kavita

Guru Mahima Par Kavita | Best Poem On Teacher

Guru Mahima Par Kavita आप पढ़ रहे हैं गुरु महिमा पर कविता :- Guru Mahima Par Kavitaगुरु महिमा पर कविता आंख मूंद

Shikshak Par Hindi Kavita

Shikshak Par Hindi Kavita | Beautiful Poem On Teachers

Shikshak Par Hindi Kavita आप पढ़ रहे हैं शिक्षक पर हिंदी कविता :- Shikshak Par Hindi Kavitaशिक्षक पर हिंदी कविता शिक्षा देने

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *