माँ पर कुछ पंक्तियाँ :- एक तुम्हारा होना माँ

0

माँ जब होती है तो जीवन आनंदमयी होता है। वह खुद तकलीफें सह लेती है लेकिन अपने बच्चों को हमेशा खुश रखती है और घर को स्वर्ग बना कर रखती है। इसी विषय पर प्रस्तुत हैं माँ पर कुछ पंक्तियाँ :-

माँ पर कुछ पंक्तियाँ

एक तुम्हारा होना माँ
क्या से क्या कर देता है,
बेजुबान छत दीवारों को
स्वर्ग सा घर कर देता है।

ख़ाली शब्दों में आता है
ऐसे अर्थ पिरोना माँ,
गीत मेरा अब लगता है
घर का कोना-कोना माँ,
एक तुम्हारा होना माँ
सपनों को सच कर देता है।
बेजुबान छत दीवारों को
स्वर्ग सा घर कर देता है।

आरोहों और अवरोहों से
जब-जब समझाने लगती हैं,
तुमसे जुड़ कर चीज़ें भी
मानों बतियाने लगती हैं,
एक तुम्हारा होना माँ
अपनापन सा भर देता है।
बेजुबान छत दीवारों को
स्वर्ग सा घर कर देता है।

तेरे ही आँचल में बचपन
जुड़ी है तुझसे हर धड़कन,
कहने को सब माँ ही कहते
सबके लिए तू है भगवन,
एक तुम्हारा होना माँ
गागर में सागर भर देता है।
बेजुबान छत दीवारों को
स्वर्ग सा घर कर देता है।

मिलना और बिछड़ जाना
जीवन की मजबूरी माँ,
उतने ही हम पास रहेंगें
जितनी हममें दूरी माँ,
एक तुम्हारा होना माँ
मन में ममता भर देता है।
बेजुबान छत दीवारों को
स्वर्ग सा घर कर देता है।

पढ़िए :- स्वर्गीय माँ की याद पर कविता “मैं टूटता बहुत हूँ माँ”

“ माँ पर कुछ पंक्तियाँ ” ( Maa Par Kuch Panktiyan ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply