26 जनवरी पर कविता :- एक शहीद की आवाज | गणतंत्र दिवस पर कविता

0

26 जनवरी पर कविता – भारत को स्वतंत्र करवाने में शहीदों का बहुत अहम योगदान रहा है। लेकिन क्या उनकी सोच के मुताबिक आज यह देश चल रहा है? आज देश की परिस्थिति देख कर क्या सोच रहा होगा एक शहीद। उन्हें कविता के रूप में रचनाकार ने कुछ इस ने कुछ इस प्रकार लिखा है जो आप पढेंगे इस ( Republic Day Poem In Hindi ) गणतंत्र दिवस पर कविता ( Gantantra Diwas Par Kavita ),  ( 26 January Poem In Hindi ) में :-

26 जनवरी पर कविता

26 जनवरी पर कविता

स्वराज के पथ पर कलेजों को सेका था।
उन आंखों ने भी आजाद भारत देखा था।।

मिली आजादी तो संविधान बना
लचीला आरक्षण धर्मनिपेक्ष बना
अपराध के सबक को कानून बना
जिंदगी के इंतजार का इंसाफ बना
अबूझ पहेली है कि कोई सुभाष नेता था।
उन आंखों ने भी आजाद भारत देखा था।।

संविधान में सब एक गणतंत्र है
सियासत से बलशाली जनतंत्र है
विरोधाभास के लिए सब स्वतंत्र हैं
असलियत से परे कि अब राजतंत्र है
ऐसा भारत मिलेगा कतई नहीं सोचा था।
उन आंखों ने भी आजाद भारत देखा था।।

मनाते सब संविधान का दिवस है
फैलता जुर्म और कानून विवश है
भ्रष्ट तंत्र तले हताश गरीब बेबस है
सियासी साजिशें, बढ़ती हवस है।
इस दिन के लिए लहू से परतंत्रता को भेदा था?
उन आंखों ने भी आजाद भारत देखा था।।

भारतीय हो कानून को मानना पड़ेगा
धर्म से पहले देश को जानना पड़ेगा
असहाय प्रजा का हाथ थामना पड़ेगा
नई बुलंदियों को साथ लांघना पड़ेगा
कुर्बान हुआ वो भी इसी धरती का बेटा था।
उन आंखों ने भी आजाद भारत देखा था।।

स्वराज के पथ पर कलेजों को सेका था।
उन आंखों ने भी आजाद भारत देखा था।।

पढ़िए :- भारतीय सैनिक पर कविता – भारती की जय कहूँगा

“ 26 जनवरी पर कविता ” ( 26 January Poem In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

2 Comments

Leave a Reply