बचपन की यादें पर कविता :- भूल गया था अपना बचपन

0

आप पढ़ रहे हैं बचपन की यादें पर कविता भाग -1 , प्रस्तुत कविता में बचपन के “शैशवावस्था” का चित्रण किया गया है :-

बचपन की यादें पर कविता

बचपन की यादें पर कविता

भूल गया था अपना बचपन,
ना जानें मित्रों ! कब का ।
पड़ी नजर जब अपने शिशु पर,
मेरा बचपन आ टपका ।।1।

गैर नहीं था मुझको कोई,
सब जन मेरे अपने थे ।
गोंद मिले माँ की हर पल ,
बस केवल ये सपने थे ।।2।।

नहीं गिला या शिकवा कोई,
ना ही कोई उलझन थी ।
पय पान करूँ पीयूष सदृश ,
बस चाहत ये क्षन क्षन थी ।।3।।

खेल खेल कर मिट्टी से जब,
तन धूमिल हो जाता था ।
आती माँ डन्डे लेकर तब ,
देख उसे डर जाता था ।।4।।

क्रोधातुर माँ को देखा जब ,
रो उठा और चिल्लाया ।
वात्सल्य जगा माँ का तत्क्षण,
आकर मुझे उठाया ।।5।।

तन को साफ किया आँचल से ,
आँचल से आँसू साफ किया ।
मत रो मेरे लल्ला प्यारे ,
मैंने तुमको माफ किया ।।6।।

बना घरौंदा मिट्टी का था,
मिट्टी का ही खाना था ।
बिस्तर था मिट्टी का ही ,
मिट्टी से उसे सजाना था ।।7।।

खेल रहा था मिट्टी से जब,
पड़ गया एक बिल से पाला ।
ले ले पानी अपने हाथों ,
पूरा बिल ही भर डाला ।।8।।

तभी वहाँ से निकला एक,
भयंकर काला विषधर ।
प्रलयंकर था फन उसका,
पर तनिक न थी मुझको डर ।।9।।

कभी उठाता फन फैलाकर,
कभी मरोड़ गिराता था ।
कभी अगल तो कभी बगल हो,
मैं देख उसे हरषाता था ।।10।।

हो चला रोमांचित तन मेरा,
रग रग में पुलकन छाई ।
पकड़ू और मरोड़ू फन उसका,
यह बात हृदय में आई ।।11।।

चला पकड़ने हरषित होकर,
तबतक माँ मेरी चीख उठी ।
दौड़ो दौड़ो पकड़ो लल्ला को,
ध्वनि गुंजित चहुंओर उठी ।।12।।

इस तरह खेलते मिट्टी जल से,
शैशव मेरा बीत गया ।
हुआ बिलीन शून्य में शैशव,
ना जानें किस ओर गया ।।13।।

आज खोजते फिरते उसको,
जन सम्मुख ये रच डाला ।
आ गया समझ अब भलीभाँति,
वह पन कभी न मिलने वाला ।।14।।

पढ़िए :- बचपन की यादें पर कविता ( भाग – 2 ) “वो दिन भी क्या खूब सुहाने थे”


रचनाकार का परिचय

रूद्र नाथ चौबे ("रूद्र")नाम – रूद्र नाथ चौबे (“रूद्र”)
पिता- स्वर्गीय राम नयन चौबे
जन्म परिचय – 04-02-1964

जन्म स्थान— ग्राम – ददरा , पोस्ट- टीकपुर, ब्लॉक- तहबरपुर, तहसील- निजामाबाद , जनपद-आजमगढ़ , उत्तर प्रदेश (भारत) ।

शिक्षा – हाईस्कूल सन्-1981 , विषय – विज्ञान वर्ग , विद्यालय- राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबरपुर , जनपद- आजमगढ़ ।
इंटर मीडिएट सन्- 1983 , विषय- विज्ञान वर्ग , विद्यालय – राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबर पुर , जनपद- आजमगढ़।
स्नातक– सन् 1986 , विषय – अंग्रेजी , संस्कृत , सैन्य विज्ञान , विद्यालय – श्री शिवा डिग्री कालेज तेरहीं कप्तानगंज , आजमगढ़ , (पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर ) उत्तर प्रदेश।

बी.एड — सन् — 1991 , पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर , उत्तर प्रदेश (भारत)
साहित्य रत्न ( परास्नातक संस्कृत ) , हिन्दी साहित्य सम्मेलन इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश

पेशा- अध्यापन , पद – सहायक अध्यापक
रुचि – आध्यात्मिक एवं सामाजिक गतिविधियाँ , हिन्दी साहित्य , हिन्दी काव्य रचना , हिन्दी निबन्ध लेखन , गायन कला इत्यादि ।
अबतक रचित खण्ड काव्य– ” प्रेम कलश ” और ” जय बजरंगबली “।

अबतक रचित रचनाएँ – ” भारत देश के रीति रिवाज , ” बचपन की यादें ” , “पिता ” , ” निशा सुन्दरी ” , ” मन में मधुमास आ गया (गीत) ” , ” भ्रमर और पुष्प ” , ” काल चक्र ” , ” व्यथा भारत की ” इत्यादि ।

“ बचपन की यादें पर कविता भाग – 1 ” ( Bachpan Ki Yaadein Hindi Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply