हिंदी कविता प्रेम कलश | Hindi Kavita Prem Kalash

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता प्रेम कलश :-

हिंदी कविता प्रेम कलश

हिंदी कविता प्रेम कलश

प्रेम कलश ( प्रथम सर्ग — प्रस्तावना )

प्राक्कथन — ” प्रेम कलश ” शीर्षक की रचना , कल्पना जगत के आकाश से प्राप्त प्रेम कलश नामक कलश से उत्पन्न हुई है ।

प्रेम कलश की प्रेम भित्ति पे,
प्रेम चिन्ह अंकित था ।
स्वस्तिक वन्दनवारों से वह ,
पूरी तरह अलंकृत था–1

विश्व सुगन्धित सुमनों की थी
बनी प्रेम की माला ।
प्रेम कलश पर पड़ी हुई थी ,
बिखराती प्रेम उजाला–2

प्रेम नीर से भरा हुआ था ,
फूलों के मकरन्द घुले ।
आनन्द सुगन्ध सुवासित जल में,
प्रेम शक्ति के छन्द मिले–3

मधु घृत शर्करा समन्वित जल में ,
हल्दी चन्दन साकार हुआ ।
केशर गुलाब औ लिली फूल से,
प्रेम का रस तैयार हुआ–4

प्रेम के रस का प्रेम पात्र ले ,
काम हाथ में आया ।
अपने हाथों प्रेम कलश में ,
प्रेम का रस है मिलाया–5

प्रेम कलश पर प्रेम दीप ,
अविराम जला करता था ।
मानो पूर्ण अवधि होने का ,
संदेश दिया करता था–6

पूर्ण अवधि होने पर उस ,
प्रेम कलश में ज्वार हुआ ।
प्रेम कलश औ प्रेम दीप से ,
दो जन का अवतार हुआ–7

प्रेम दीप की प्रेम शिखा से ,
शिव प्रेमी अवतार लिया ।
प्रेम कलश के मादक जल से,
शिवा रूप साकार लिया–8

काल चला अपनी गति से ,
दोनों में किशोरता आयी ।
काल नियम अविचल होता है,
दोनों में मादकता छायी–9

एक बार शिव और शिवा ,
दोनों में साक्षात्कार हुआ ।
अपलक दृष्टि बनीं दोनों की,
सिहरन का संचार हुआ–10

दोनों में नामकरण परिचय ,
औ कुछ अनजानी बात हुई ।
बप गया प्रेम का बीज वहीं ,
औ मधुरस की बरसात हुई–11

दोनों के गहरे प्रेम अतल से ,
प्रेम कलश का गीत बना ।
शिव और शिवा के जीवन का ,
आनन्दमयी संगीत बना–12

प्रेम कलश की प्रेम मल्लिका,
बिखरी गीत के वन्दों में ।
माला के सुमनों की लड़ियाँ,
घुली काव्य के छन्दों में–13

You may also like...

3 Responses

  1. Avatar Omprakash Chaubey says:

    अत्यंत सुन्दर एवं मनमोहक रचना

  2. Avatar जितेन्द्र जी says:

    बहुत ही सुंदर रचना। वियोग शृंगार का अच्छा वर्णन, प्रकृति वर्णन वर्णन भी अच्छा है। नायिका के विरह को और दर्शाया जा सकता था। नायक-नायिका के बिछड़ने का कारण स्पष्ट नहीं है। छंदों में कसावट नहीं है, लयबद्धता की कमी है, पढ़ने में खटकते हैं। कहीं- कहीं व्याकरणात्मक त्रुटियां हैं। भावों के दृष्टिकोण से अच्छी रचना।

  3. Avatar Om prakash Chaubey says:

    Adarnya jitendra ji ! Apne reaction diya ki rachna sundar h , bhav achchhe hain , viyog aur sanyog ka varnan bhi bhut khoobsoorat dhhang se kiya gya h .
    Fir ye kahna ki kasavat nhi chhadon me , laybadhata nhi h , avashyak aur uchit nhi lgta , kyuki har vyakti apne andaj me read krta h . Mujhe aisa kuchh nhi lgta . Reaction savdhani poorvak diya jana chahiye , kuki rachnakar apni poori chhamta se rachana krta h , rachnakar ke mnobal ko shayad aghat pahuche aise reaction se . Aise reacion se bcha jana chahiye .
    Thank u.

Leave a Reply

Your email address will not be published.