हिंदी कविता काल चक्र | Hindi Kavita Kaal Chakra

0

सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड काल चक्र से निर्मित एवं संचालित है ।सभी चर अचर काल चक्र के नियमानुसार गतिमान हैं । ब्रह्माण्ड में जड़,चेतन सभी का जीवन एवं सभी की गतिविधियाँ काल चक्र पर ही आधारित हैं। इन्हीं भावनाओं को प्रदर्शित करती हुई एक संक्षिप्त रचना ” हिंदी कविता काल चक्र ” आप सभी को समर्पित :-

हिंदी कविता काल चक्र

हिंदी कविता काल चक्र

विश्व नहीं कुछ और बन्धुओं,
काल चक्र का महल खड़ा ।
जगत् बना है काल चक से,
काल चक्र का पहल बड़ा ।।1।।

ब्रह्माण्ड अखिल पर जगत् नियंता,
सर्वश्व नियंत्रण रखता ।
सर्व शक्तिमान के अनुशासन से,
सारा जग है चलता ।।2।।

एक रुपहला पर्दा है जग,
जहाँ सभी हैं दिखते ।
आकर सारे जीव चराचर,
अपना अभिनय करते ।।3।।

कभी किसी का अभिनय छोटा,
बड़ा किसी का हो जाता ।
किस कमाल से कैसे होता,
ना यह खेल समझ आता ।।4।।

छोटा शिशु धरती पर आता,
माँ ही पर निर्भर रहता ।
बढ़ता रहता काल चक्र से ,
धीरे धीरे सरकन लगता ।।5।।

मनमोहक मनमोहन मूरत,
मनमुग्धक औ मनभावन ।
काल चक्र संग होता व्यतीत,
जीवन का शिशु पन पावन ।।6।।

बाल अवस्था युवा अवस्था,
क्रमशः आती वृद्धावस्था ।
तन मन जीवन थक जाता है,
काल चक्र से मरणावस्था ।।7।।

उगता सूरज सुबह सबेरे,
बाल रूप सा लगता है ।
प्रथम प्रहर में होता किशोर,
ज्यों ज्यों दिन चढ़ता है ।।8।।

दोपहरी में युवा अवस्था,
वृद्धावस्था तीसरे प्रहर ।
जग आलोकित करता रहता ,
ढलता सायं तीसरे प्रहर।।9।।

धरती से नन्हा नव अंकुर,
नवोद्भिद् बन कर आता ।
नवल रश्मि पाकर सविता की,
हरषित होता सुख पाता ।।10।।

काल चक्र के संग संग चलकर,
वृक्ष बड़ा सा बन जाता ।
पहले लगते फूल और फल,
बीज अनन्तर उसमें आता।।11।।

काल चक्र से गतिमान चराचर,
सूरज चाँद सितारे ।
भूमिका बड़ी है काल चक की,
गति पाते जड़ सारे ।।12।।

पढ़िए :- वक्त पर शायरी | वक्त पर 9 कोट्स और स्टेटस


रचनाकार का परिचय

रूद्र नाथ चौबे ("रूद्र")नाम – रूद्र नाथ चौबे (“रूद्र”)
पिता- स्वर्गीय राम नयन चौबे
जन्म परिचय – 04-02-1964

जन्म स्थान— ग्राम – ददरा , पोस्ट- टीकपुर, ब्लॉक- तहबरपुर, तहसील- निजामाबाद , जनपद-आजमगढ़ , उत्तर प्रदेश (भारत) ।

शिक्षा – हाईस्कूल सन्-1981 , विषय – विज्ञान वर्ग , विद्यालय- राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबरपुर , जनपद- आजमगढ़ ।
इंटर मीडिएट सन्- 1983 , विषय- विज्ञान वर्ग , विद्यालय – राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबर पुर , जनपद- आजमगढ़।
स्नातक– सन् 1986 , विषय – अंग्रेजी , संस्कृत , सैन्य विज्ञान , विद्यालय – श्री शिवा डिग्री कालेज तेरहीं कप्तानगंज , आजमगढ़ , (पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर ) उत्तर प्रदेश।

बी.एड — सन् — 1991 , पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर , उत्तर प्रदेश (भारत)
साहित्य रत्न ( परास्नातक संस्कृत ) , हिन्दी साहित्य सम्मेलन इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश

पेशा- अध्यापन , पद – सहायक अध्यापक
रुचि – आध्यात्मिक एवं सामाजिक गतिविधियाँ , हिन्दी साहित्य , हिन्दी काव्य रचना , हिन्दी निबन्ध लेखन , गायन कला इत्यादि ।
अबतक रचित खण्ड काव्य– ” प्रेम कलश ” और ” जय बजरंगबली “।

अबतक रचित रचनाएँ – ” भारत देश के रीति रिवाज , ” बचपन की यादें ” , “पिता ” , ” निशा सुन्दरी ” , ” मन में मधुमास आ गया (गीत) ” , ” भ्रमर और पुष्प ” , ” काल चक्र ” , ” व्यथा भारत की ” इत्यादि ।

“ हिंदी कविता काल चक्र ” ( Hindi Kavita Kaal Chakra ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply