पिता के लिए कविता :- वह पिता हमारा | Pita Ke Liye Kavita

0

पुत्र के सम्बन्ध में माता का महत्व क्या होता है , इस पर बहुत कुछ लिखा गया और रचना की गई है। परन्तु पुत्र के सम्बन्ध में पिता का क्या महत्व है, इसे दर्शाती एक छोटी सी रचना ” पिता के लिए कविता ” प्रस्तुत है :-

पिता के लिए कविता

पिता के लिए कविता

है एक शख्स वह पिता हमारा ,
जिसनें चलना सिखलाया।
तन मन में पुलकन भर भर कर,
बाँहों में हमें झुलाया ।। 1।।

शिष्टाचार सभ्यता तौर तरीका,
पग पग पर हमको बतलाये ।
किस तरह बनें जीवन सुखमय,
चुन चुन कर पाठ पढ़ाये ।।2।।

दूर पराजय भगा भगा कर,
कैसे विजयी रहना है ।
दुष्कर प्रलयंकर और भयंकर,
स्थिति से कैसे लड़ना है ।।3।।

पिता रूप में पाकर तुमको,
भाग्य जगे हैं मेरे ।
हो पूजनीय तुम पिता हमारे,
भगवान तुम्हीं हो मेरे ।।4।।

सुख में बीता बचपन मेरा ,
पढ़ते हुआ सयाना ।
पिता रत्न है इस जग में,
पिता अमोल खजाना ।।5।।

कभी डाँटता त्रुटियों पर वह ,
कभी स्नेह से भर देता ।
कभी उठाता गिर जाने पर ,
अपनी बाँहों में भर लेता ।।6।।

जो करते अपमान पिता का,
वह कभी सँभल ना पाते हैं ।
होता व्यतीत दुःख में जीवन,
वह कभी नहीं सुख पाते है ।।7।।

जो दिया सहारा बचपन में ,
वह मूल्य चुका ना पाओगे ।
गर तनिक किया अपमान पिता का ,
जीवन भर पछताओगे ।।8।।

पढ़िए :- पिता को समर्पित कविता “शिक्षित किए मुझे मेरे तात”


रचनाकार का परिचय

रूद्र नाथ चौबे ("रूद्र")नाम – रूद्र नाथ चौबे (“रूद्र”)
पिता- स्वर्गीय राम नयन चौबे
जन्म परिचय – 04-02-1964

जन्म स्थान— ग्राम – ददरा , पोस्ट- टीकपुर, ब्लॉक- तहबरपुर, तहसील- निजामाबाद , जनपद-आजमगढ़ , उत्तर प्रदेश (भारत) ।

शिक्षा – हाईस्कूल सन्-1981 , विषय – विज्ञान वर्ग , विद्यालय- राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबरपुर , जनपद- आजमगढ़ ।
इंटर मीडिएट सन्- 1983 , विषय- विज्ञान वर्ग , विद्यालय – राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबर पुर , जनपद- आजमगढ़।
स्नातक– सन् 1986 , विषय – अंग्रेजी , संस्कृत , सैन्य विज्ञान , विद्यालय – श्री शिवा डिग्री कालेज तेरहीं कप्तानगंज , आजमगढ़ , (पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर ) उत्तर प्रदेश।

बी.एड — सन् — 1991 , पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर , उत्तर प्रदेश (भारत)
साहित्य रत्न ( परास्नातक संस्कृत ) , हिन्दी साहित्य सम्मेलन इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश

पेशा- अध्यापन , पद – सहायक अध्यापक
रुचि – आध्यात्मिक एवं सामाजिक गतिविधियाँ , हिन्दी साहित्य , हिन्दी काव्य रचना , हिन्दी निबन्ध लेखन , गायन कला इत्यादि ।
अबतक रचित खण्ड काव्य– ” प्रेम कलश ” और ” जय बजरंगबली “।

अबतक रचित रचनाएँ – ” भारत देश के रीति रिवाज , ” बचपन की यादें ” , “पिता ” , ” निशा सुन्दरी ” , ” मन में मधुमास आ गया (गीत) ” , ” भ्रमर और पुष्प ” , ” काल चक्र ” , ” व्यथा भारत की ” इत्यादि ।

“ पिता के लिए कविता ” ( Pita Ke Liye Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply