विरह वेदना पर कविता | Virah Vedna Par Kavita

0

विरह वेदना पर कविता – आदरणीय मित्रों ! हमारे अन्तर्मन में जब भी कोई पीड़ा पलने लगती है , तो उसी प्रसव वेदना से कविता का प्रादुर्भाव होने लगता है । प्रस्तुत रचना में कुछ इन्हीं भाव स्थलों का चित्रण किया गया है ।

विरह वेदना पर कविता

विरह वेदना पर कविता

जब जब अन्तर्मन में कोई प्रसव की पीड़ा पलती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।।
फूल खिलें हो उपवन में ।
भ्रमर मस्त हों गुन्जन् में ।।
पुलकन जो भर जाये मन में ।
स्पन्दन जो हो जाये तन में ।।

रंग बिरंगे पर फैलाये जब जब तितली उड़ती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।।
जब जब अन्तर्मन में…… ।।1।।

रात चाँदनी आये जब ।
भूली याद सताये जब ।।
कोयल जब सुर में बोले ।
नस नस में विष सा घोले ।।

जब रग रग में विरही के विरह वेदना उठती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।
जब जब अन्तर्मन में….. ।।2।।

गेहूँ की लटकी बाली हो ।
चहुँदिशि फैली हरियाली हो ।।
सरसों के पीले फूल खिले हों ।
पवन सुगंधित हिले मिले हों ।।

गन्धकोश से भर सुगन्ध जब मलय समीर निकलती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।
जब जब अन्तर्मन में … ।।3।।

सावन की मस्त बहार हो ।
रिमझिम सी पड़ती फुहार हो ।।
घनघोर घटा भी हो छायी ।
हो यौवन की जो अँगडाई ।।

पिया मिलन की आस लिए विरही जब आहें भरती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।
जब जब अन्तर्मन में …. ।।4।।

सरवर का निर्मल नीर जहाँ ।
चन्दन बन बहे समीर जहाँ ।।
प्रेम ज्योति की परम प्रभा हो ।
नव युगलों की लगी सभा हो ।।

क्रौन्च पक्षियों के अन्दर से जब जब आह निकलती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।
जब जब अन्तर्मन में… ।।5।।

भादों की घनघोर निशा हो ।
काली काली चहुँओर दिशा हो ।
दादुर की ध्वनि लावारिस हो ।
जुगनूँ सँग रिमझिम बारिश हो ।।

पिया सेज पर पड़ी अकेली युवती जभी तड़पती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।
जब जब अन्तर्मन में….. ।।6।।

जब जब अन्तर्मन में कोई प्रसव की पीड़ा पलती है ।
तब तब कविता की धार प्रबल चल पड़ती है ।।

पढ़िए :- हिंदी कविता विरह वेदना | Hindi Kavita Virah Vedna


रचनाकार का परिचय

रूद्र नाथ चौबे ("रूद्र")नाम – रूद्र नाथ चौबे (“रूद्र”)
पिता- स्वर्गीय राम नयन चौबे
जन्म परिचय – 04-02-1964

जन्म स्थान— ग्राम – ददरा , पोस्ट- टीकपुर, ब्लॉक- तहबरपुर, तहसील- निजामाबाद , जनपद-आजमगढ़ , उत्तर प्रदेश (भारत) ।

शिक्षा – हाईस्कूल सन्-1981 , विषय – विज्ञान वर्ग , विद्यालय- राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबरपुर , जनपद- आजमगढ़ ।
इंटर मीडिएट सन्- 1983 , विषय- विज्ञान वर्ग , विद्यालय – राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबर पुर , जनपद- आजमगढ़।
स्नातक– सन् 1986 , विषय – अंग्रेजी , संस्कृत , सैन्य विज्ञान , विद्यालय – श्री शिवा डिग्री कालेज तेरहीं कप्तानगंज , आजमगढ़ , (पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर ) उत्तर प्रदेश।

बी.एड — सन् — 1991 , पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर , उत्तर प्रदेश (भारत)
साहित्य रत्न ( परास्नातक संस्कृत ) , हिन्दी साहित्य सम्मेलन इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश

पेशा- अध्यापन , पद – सहायक अध्यापक
रुचि – आध्यात्मिक एवं सामाजिक गतिविधियाँ , हिन्दी साहित्य , हिन्दी काव्य रचना , हिन्दी निबन्ध लेखन , गायन कला इत्यादि ।
अबतक रचित खण्ड काव्य– ” प्रेम कलश ” और ” जय बजरंगबली “।

अबतक रचित रचनाएँ – ” भारत देश के रीति रिवाज , ” बचपन की यादें ” , “पिता ” , ” निशा सुन्दरी ” , ” मन में मधुमास आ गया (गीत) ” , ” भ्रमर और पुष्प ” , ” काल चक्र ” , ” व्यथा भारत की ” इत्यादि ।

“ विरह वेदना पर कविता ” ( Virah Vedna Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply