विरह गीत :- कोयलिया गीत सुनाती है | Virah Geet

आप पढ़ रहे हैं विरह गीत “कोयलिया गीत सुनाती है” :-

विरह गीत

विरह गीत :- कोयलिया गीत सुनाती है

कोयलिया गीत सुनाती है,
कोयलिया गीत सुनाती है।
गीत के गुन्जन से
रग रग में विष सा छाती है।
कोयलिया गीत……

प्रथम बार का मिलन आज ,
यादों में फिर है आया ।
स्वर्णिम पल जो बीत गये थे ,
उनकी पड़ती छाया ।।
गीत की बोली उर में
मेरे शूल चुभाती है।
कोयलिया गीत…. (1)

विरहानल में जलती प्यारे ,
रात चाँदनी आयी ।
दर्द भरी होती है कैसी ,
मधुरिम सी अँगड़ाई ।।
तप्त तवे पर लगता
जैसे जल बरसाती है ।
कोयलिया गीत ….. (2)

हम इंसानों की होती है ,
कभी कभी मजबूरी ।
दिल होता है पास कंत के ,
तन की होती दूरी ।।
जाति तुम्हारी पंछी की
क्यों मुझे सताती है ।
कोयलिया गीत……. (3)

कोयल साथ निभाती निदिया ,
बैरन बनी है मेरी ।
दुखते नैन को चैन नहीं है ,
आती याद घनेरी ।।
मन मन्दिर में तपन
बढ़ाकर मुझे तपाती है ।
कोयलिया गीत …….. (4)

जगती तपती विरह अगन से ,
मैं विरही दीवानीं ।
किसे ढूढ़ती तूँ फिरती है ,
क्या है तेरी कहानी ।।
व्यथा कथा के गीत
अनल से मुझे जलाती है ।
कोयलिया गीत…. (5)

बीत गई है रैन सिसकते ,
चैन न इक पल पाई ।
क्या जानूँ मैं कैसी है ए ,
ऊषा की अँगड़ाई ।।
काँटों सम तूँ गीत
सुनाकर दर्द जगाती है ।
कोयलिया गीत……. (6)

पढ़िए :- हिंदी कविता विरह वेदना | Hindi Kavita Virah Vedna


रचनाकार का परिचय

रूद्र नाथ चौबे ("रूद्र")नाम – रूद्र नाथ चौबे (“रूद्र”)
पिता- स्वर्गीय राम नयन चौबे
जन्म परिचय – 04-02-1964

जन्म स्थान— ग्राम – ददरा , पोस्ट- टीकपुर, ब्लॉक- तहबरपुर, तहसील- निजामाबाद , जनपद-आजमगढ़ , उत्तर प्रदेश (भारत) ।

शिक्षा – हाईस्कूल सन्-1981 , विषय – विज्ञान वर्ग , विद्यालय- राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबरपुर , जनपद- आजमगढ़ ।
इंटर मीडिएट सन्- 1983 , विषय- विज्ञान वर्ग , विद्यालय – राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबर पुर , जनपद- आजमगढ़।
स्नातक– सन् 1986 , विषय – अंग्रेजी , संस्कृत , सैन्य विज्ञान , विद्यालय – श्री शिवा डिग्री कालेज तेरहीं कप्तानगंज , आजमगढ़ , (पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर ) उत्तर प्रदेश।

बी.एड — सन् — 1991 , पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर , उत्तर प्रदेश (भारत)
साहित्य रत्न ( परास्नातक संस्कृत ) , हिन्दी साहित्य सम्मेलन इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश

पेशा- अध्यापन , पद – सहायक अध्यापक
रुचि – आध्यात्मिक एवं सामाजिक गतिविधियाँ , हिन्दी साहित्य , हिन्दी काव्य रचना , हिन्दी निबन्ध लेखन , गायन कला इत्यादि ।
अबतक रचित खण्ड काव्य– ” प्रेम कलश ” और ” जय बजरंगबली “।

अबतक रचित रचनाएँ – ” भारत देश के रीति रिवाज , ” बचपन की यादें ” , “पिता ” , ” निशा सुन्दरी ” , ” मन में मधुमास आ गया (गीत) ” , ” भ्रमर और पुष्प ” , ” काल चक्र ” , ” व्यथा भारत की ” इत्यादि ।

“ विरह गीत ” ( Virah Geet ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.