देशभक्ति कविता पैगाम | Desh Bhakti Kavita Paigam

2+

हम अपने देश में शांतिपूर्वक रहते हैं क्योंकि हमारे लिए सरहद पर कोई अपनी जान दांव पर लगाये खड़ा रहता है। अपने परिवार से दूर अपने एक अनोखे परिवार के साथ, जिसमें उसी की तरह और भी सैनिक देश सेवा में डटे रहते हैं। राष्ट्र रक्षा में शहीद हुए सैनिकों की बहादुरी को समर्पित ( Desh Bhakti Kavita Paigam ) देशभक्ति कविता पैगाम ;-

देशभक्ति कविता पैगाम

मैंने इक पैगाम लिखा है,अपने देश के नाम लिखा है;
मत लाना तुम आँख में आँसू , अंतिम बार प्रणाम लिखा है।
मैंने इक पैगाम लिखा है अपने देश के नाम लिखा है।

लिपट तिरंगे में आऊँ तो, आँख में आँसू ना लाना तुम;
हूं बेटा – भाई – पति किसी का, मुझको भूल ना जाना तुम।
शहीद आज बन माँ चरणों में, वीरोचित परिणाम लिखा है;
मैंने इक पैगाम लिखा है अपने देश के नाम लिखा है।

था पिता के अंधे की लाठी जो, रस्ता अपना मोड़ गया है;
जिसके तप से गोली खाई,जग में तन्हा छोड़ गया है।
पिता तुम्हारे ही चरणों में, स्वर्ग सा प्यारा धाम लिखा है;
मैंने इक पैगाम लिखा है अपने देश के नाम लिखा है।

माँ मत रोना, तेरी कृपा से, जग में तेरा नाम किया है;
तेरे ही क़दमों को छूकर, फिर प्राणों का दान किया है।
जन्म तेरी गोदी में हो फिर, सविनय विनय प्रणाम लिखा है;
मैंने इक पैगाम लिखा है अपने देश के नाम लिखा है।

दुश्मन थे दुगने संख्या में, पर हम पल भी डिगे नहीं;
20 के बदले 40 को मारे, शौर्य देख वो टिके नहीं।
जीत कदम चूमे वीरों के, सैन्य शौर्य अविराम लिखा है;
मैंने इक पैगाम लिखा है अपने देश के नाम लिखा है।

भारत माँ की सीमा पर है, दुश्मन में इतना फौलाद कहाँ;
जयचंदो की भीड़ यहां पर, करे शत्रु हित काम यहां।
छले गए जिन गद्दारों से, असि पर उनका नाम लिखा है;
मैंने इक पैगाम लिखा है अपने देश के नाम लिखा है।

पढ़िए :- फौजी की कविता “वीर सैनिक का संदेश”


रचनाकार का परिचय

संजय पांडेययह कविता हमें भेजी है संजय पांडेय जी ने जौनपुर,उत्तर प्रदेश से।

देशभक्ति कविता पैगाम  ( Desh Bhakti Kavita Paigam) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

2+

Leave a Reply