Desh Bhakti Par Kavita | देश भक्ति पर कविता | Country Love

देश भक्ति पर कविता ( Desh Bhakti Par Kavita ) – हिंदुस्तान के प्रति प्रेम भावना प्रकट करती हुई कविता “मान बढ़ाने वीरों का”

Desh Bhakti Par Kavita
देश भक्ति पर कविता

Desh Bhakti Par Kavita

नहला अरि की रक्त धार
चमका दो हिंदुस्तान को,
मान बढ़ाने वीरों का
मिटवा दो पाकिस्तान को।

वंदेमातरम वंदेमातरम…….
वंदेमातरम वंदेमातरम…….

देख सपूतों की कुर्बानी
आज तिरंगा झुका पडा़,
खेल सियासी देख-देख के
हर सेनानी रूका पडा़,
पश्चिम की सीमा पे देखो
शैतानों के ठाठ है,
रोता आँसू खून के ये
अपना श्मशानी घाट है,
खौल रहा है देख खून
अब वीरों के बलिदान को।
मान बढ़ाने वीरों का…..

वंदेमातरम वंदेमातरम…….
वंदेमातरम वंदेमातरम…….

ऊंची करो मशाले अपनी
आतंकित जन जाग पड़े,
शत्रु कटें, अब वो भय वाली
छायाएँ भी भाग पड़े,
सदियों से शोषित आत्माओं
को भारत बनता है घर,
सब पंथों के सद्ग्रंथो का
गुंजन होता यहाँ अमर,
जन-गंगा की ज्वार लहर
बन, आने दो तुफान को।
मान बढ़ाने वीरों का…..

वंदेमातरम वंदेमातरम……
वंदेमातरम वंदेमातरम……

शस्यश्यामला सुजला सफला
इस धरती के नाम बड़े,
गंगा , जमुना , सरस्वती से
सिंचित पावन धाम खड़े,
ज्ञान-रश्मि को दिया बिखेर
किया विश्व कल्याण है,
सतत-सत्य-रत धर्म-प्राण
वो अपना देश महान है,
गाके गौरव गाथा उनकी
अमर करो गुणगान को।
मान बढ़ाने वीरों का…..

वंदेमातरम वंदेमातरम…….
वंदेमातरम वंदेमातरम…….

जब अपनी नदियों की लहरे
डोल डोल मदमाती है,
खौफ दिखा शत्रु को अपना
गौरव से इतराती है,
ऐसी अटल अवस्था में भी
कल क्यों पल-पल टलता है,
शांति प्रेम उपदेशों से अब
जी अपना न बहलता है,
भरो हृदय मे ओज, चलो
अपना सर्वश बलिदान करो।
मान बढ़ाने वीरों का…..

वंदेमातरम वंदेमातरम…….
वंदेमातरम वंदेमातरम…….

गाँधी, नेहरू, तिलक, सुभाष
सबका ये प्यारा देश है,
जियो और जीने दो का
देता सबको संदेश है,
प्रहरी बनकर खड़ा हिमालय
जिसके उत्तरी द्वार पर,
हिंद महासागर दक्षिण में
जिसके लिये विशेष है,
गाने लगी अब दसों दिशाऐं
वीरों के यशगान को।
मान बढ़ाने वीरों का…..

वंदेमातरम वंदेमातरम…….
वंदेमातरम वंदेमातरम…….

पढ़िए :- भारत माता की जय कविता “भारत माता की जय जय हो”

“ देश भक्ति पर कविता ” ( Desh Bhakti Par Kavita ) आपको कैसी लगी ? Desh Bhakti Par Kavita के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

Praveen Kucheria

Praveen Kucheria

मेरा नाम प्रवीण हैं। मैं हैदराबाद में रहता हूँ। मुझे बचपन से ही लिखने का शौक है ,मैं अपनी माँ की याद में अक्सर कुछ ना कुछ लिखता रहता हूँ ,मैं चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सभी पाठकों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.