हिंदी कविता कलम ने जब | Hindi Kavita Kalam Ne Jab

0

पढ़िए क्या लिख रही है कलम अपने देश के बारे में ( Hindi Kavita Kalam Ne Jab ) ” हिंदी कविता कलम ने जब जब लिखा ” में :-

हिंदी कविता कलम ने जब

हिंदी कविता कलम ने जब

कलम ने जब जब लिखा कुछ प्यार की बातें।
तब मेरे सामने राष्ट्र की तस्वीर आ गई।

कलम ने जब लिखा कुछ राजनीति।
फिर मेरे सामने राष्ट्र की तस्वीर आ गई।

लिख नहीं सकता मैं प्यार और राजनीति भरे हास को।
मैं लिखूंगा सिर्फ केवल भारतीय इतिहास को।

इंकलाबी खूनी जिनके रक्त में है बह रहा।
देह का हर कण जो भारत माता की जय कह रहा।

उस नए से रक्त का हर कतरा हिंदुस्तान है।
जो रक्त मिट्टी में मिला वह मिट्टी तीरथ धाम है।

इसीलिए मैं किसी मांग का सिंदूर नहीं लिख सकता हूं।
मैं तो सिर्फ वीरों की शमशीर लिख सकता हूं।

पढ़िए :- कागज कलम की तकरार कविता | जब कलम ने बोला कागज से


रचनाकार का परिचय :-

मनीष मिश्रायह कविता हमें भेजी है मनीष मिश्रा जी ने ग्राम अल्लापुर, पोस्ट सुंधियामऊ जिला बाराबंकी उत्तर प्रदेश से।

“ हिंदी कविता कलम ने जब ” ( Hindi Kavita Kalam Ne Jab ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply