हिंदी कविता चांदनी रात | Hindi Kavita Chandni Raat

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता चांदनी रात :-

हिंदी कविता चांदनी रात

हिंदी कविता चांदनी रात

यह चांदनी रात
कितनी निराली
यह तो मदवाली है।।

श्वेत चंद्रमा
रजत रश्मियां,
रूप यौवन से
अपनी छटा बीखराती।।

चांदनी रात में
सुंदर रूप
वसुंधरा का आंचल
महाकाती ।।

सतरंगी पुष्प – लताओं से
करती श्रृंगार
खेत खलिहानों की
लहलहाती फसले
खुशहाली का करती बखान।।

चहचहाट चिड़ियों की
पक्षियों की ध्वनि
अनुभव कराती हैं
अपने – अपने घोसलों में जाना
उनका एकजुट रहना
कितना निराला है,
कितना कुछ सिखाती हैं।।

वह श्याम का इंतजार
वैदिक मंत्रो का नाद
वह महासंगीत का स्वर
चांदनी रात के मौन में
नदियों की कल- कल ध्वनि
जो मानो संगीत की
पराकाष्ठा का
अनुभव कराती।।

चांदनी रात कितनी प्यारी है
जो हमे यह अनुभव कराती हैं
मानो सब कितना शांति सा प्यार है
चांदनी रात का अनुपम नजारा है।।

पढ़िए :- हिंदी कविता चाँद से फरियाद | Hindi Kavita Chand Se Fariyaad


रचनाकार का परिचय

संध्या शर्मानाम – संध्या शर्मा

स्नाकोत्तर – एम. एससी . ( वनस्पति विज्ञान ) 71%
“विश्वविद्यालय की प्रावण्य सूची में स्थान ”
(देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर )

साहित्यिक परिचय – 1 साल से लिखना प्रारम्भ किया है जिसमे 50 से ज्यादा कविताएं तथा 5
लेख है जो अलग – अलग वेबसाइट रचनाएं प्रकाशित है।

जिसमे कुछ को सम्मान मिला है , कुछ को सराहना , कुछ को मासिक पत्रिका में स्थान।।

लेखन मेरा शोक है जिसमें मुझे लिखने पर अंदर से खुशी मिलती हैं। शब्द गहरे नहीं होते है मेरी रचनाओं के सीखने का प्रयास कर रही हूं। मंच पटल पर बहोत कुछ सीखने को मिलता है। वर्तमान में सिविल सर्विस , प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी के साथ लेखन कार्य कर रही हूं।

“ हिंदी कविता चांदनी रात ” ( Hindi Kavita Chandni Raat ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.