माँ का दर्द कविता | Maa Ka Dard Kavita

माँ अपने जीवन में बहुत कष्ट सहती है जिस से कि उसका परिवार सुखी रह सके कैसे? पढ़िए हरीश चामोली जी द्वारा रचित ( Maa Ka Dard Kavita ) माँ का दर्द कविता “जलती आग की लौ है माँ”

माँ का दर्द कविता

माँ का दर्द कविता

वो मिट्टी के कच्चे चूल्हे पर,जलती आग की लौ है माँ।
कच्ची पक्की मोटी पतली,रोटीयाँ पकाती दिखती माँ।

कभी चूल्हे पे फूंक मारती, कभी उबलते दूध पर माँ।
जला देती जब हाथ कभी तो,दवा लगाती दिखती माँ।

चाय में घुलती शक्कर जैसी, मिलनसार होती है माँ।
मेहमानों की घर मे करती,मेहमान नवाजी दिखती माँ।

कभी पिता की डांट सुने तो, दादी की फटकार है माँ।
सब कुछ कर देती है फिर भी,ताने सुनती दिखती माँ।

नहीं समझ उसको शायद,क्या होती दुनियादारी है माँ?
अपने ही घर के कोनों में, अश्रुधार छुपाती दिखती माँ।

नौ माह बोझ लिए कोख में, वेदनाओं का पहाड़ है माँ।
अपनी ही औलादों की भी, गुर्राहट सहती दिखती माँ।

चालीस वर्ष के होते ही,साठ वर्षों का अनुभव होती माँ।
माथे की झुर्रियों को अपनी,व्यथाएं सुनाती दिखती माँ।

माँ से उसका धर्म न पूछो, इक अलग धर्म होती है माँ।
ममता की मूरत बनकर वह,स्वधर्म बताती दिखती माँ।

खाता है कसम आज हरीश, तुझे न गम कोई देगा माँ।
मेरी खुशियों की खातिर दोनों,हाथ जोड़ती दिखती माँ।

घर की पूजा-पाठ हो या फिर,मंदिरों की आरती में माँ।
सलामती की खातिर मेरी,नतमस्तक होती दिखती माँ।।

पढ़िए :- माँ की याद में कविता ” मात बिन सूना है संसार “


हरीश चमोली

मेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

“ माँ का दर्द कविता ” ( Maa Ka Dard Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.