Motivational Kavita मंजिल को यदि पाना है Inspirational Poem

Motivational Kavita आप पढ़ रहे हैं मोटिवेशनल कविता मंजिल को यदि पाना है

Motivational Kavita
मंजिल को यदि पाना है

Motivational Kavita

मंजिल को यदि पाना है तो,
गिरकर हमको उठना होगा।
मध्य मार्ग में आने वाले
हर कंटक से लड़ना होगा।
असफलता को मार ठोकरें,
हमको आगे बढ़ना होगा।
गिरकर हमको उठना होगा।

जीवन में कुछ करने खातिर,
सोने सा फिर तपना होगा।
सपना जब तक पूरा न हो,
तब तक हमको जगना होगा।
सपनों को सच करने खातिर,
अंगारों पर चलना होगा।
गिरकर हमको उठना होगा।

जब जीवन में बाधा आएं।
बादल संकट के मंडराए।
अंधकार से जब घिर जाएं।
राह न कोई जब दिख पाये,
तब अर्जुन सा लक्ष्य साधकर,
जुगनू बनकर उड़ना होगा।
गिरकर हमको उठना होगा।

निज आलस को दूर भगाकर,
संघर्ष हमें नित करना होगा।
दुर्व्यसनों और कुसंगति से,
स्वयं ही फिर बचना होगा।
चंचल मन को केंद्रित करके,
व्यवधानों से लड़ना होगा।
गिरकर हमको उठना होगा।

नकारात्मकता पास जो आए,
डांट-डबट उसे दूर भगाएं।
निराशाओं को रौंदके अपनी,
राहें कुछ आसान बनाएं।
पाने को हर मंजिल अपनी,
धरती फाड़कर उगना होगा।
गिरकर हमको उठना होगा।

भूतकाल की यादों पर हल,
उम्मीदों का चलाना होगा।
खंडित हुवे हृदय पर अपने,
मंदिर एक बनाना होगा।
मंजिल पाने को मेरे बंधु,
सूरज सा फिर जलना होगा।
गिरकर हमको उठना होगा।

पढ़िए :- महाराणा प्रताप पर कविता | Maharana Pratap Poem In Hindi


रचनाकार का परिचय

हरीश चमोली

मेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

मंजिल को यदि पाना है तो कविता ” ( Motivational Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.