जननी पर कविता – प्रेम की अविरल नदी मैं | Janani Par Kavita

आप पढ़ रहे हैं जननी पर कविता ” प्रेम की अविरल नदी मैं “

जननी पर कविता

जननी पर कविता

प्रेम की अविरल नदी मैं
तु स्नेह का सागर है माँ,
चीर कर दीर्घ लहरों को
मैं तुझमें मिलना चाहता हूँ,

अंजुरी में ले शुभ्र कमल
और पावन शुचित नीर,
कर समर्पण खुद को मैं
चरणों में उतरना चाहता हूँ।।

छोड़ कर उन यादों को
मैं कैसे जी सकूंगा माँ,
गम विरह के क्षण भी मैं
ना कभी कह सकूंगा माँ,

आखिरी है लक्ष्य तू मेरा
तु जानती है दिल की बात,
यादों को करके समर्पित
निरंतर बह सकूंगा माँ,

अपूर्ण स्वप्न जो झोली में है
पुर्ण करना चाहता हूँ,
कर समर्पण खुद को मैं
चरणों में उतरना चाहता हूँ।।

कुंदन सा चमकता तन तेरा
चंदन सा महकता मन है माँ,
फूलों की लड़ियों पे मानों
ओस सा तु कण है माँ,

दूसरा कोई ना मेरे
नयनों में सिवाय तेरे,
पा गया जन्मों जन्मों का
आज रतन और धन मैं माँ,

मैं दिये की भांति अब
संग तेरे जलना चाहता हूँ,
कर समर्पण खुद को मैं
चरणों में उतरना चाहता हूँ।।

प्रेम की अविरल नदी……

पढ़िए :- माँ को समर्पित कविता | माँ से है संसार प्रकाशित


“ जननी पर कविता ” ( Janani Par Kavita ) आपको कैसी लगी ? “ जननी पर कविता ” ( Janani Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

Praveen Kucheria

Praveen Kucheria

मेरा नाम प्रवीण हैं। मैं हैदराबाद में रहता हूँ। मुझे बचपन से ही लिखने का शौक है ,मैं अपनी माँ की याद में अक्सर कुछ ना कुछ लिखता रहता हूँ ,मैं चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सभी पाठकों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.