मकर संक्रांति पर कविता :- मकर संक्रांति आई है | Makar Sankranti Par Kavita

0

आप पढ़ रहे है मकर संक्रांति पर कविता :-

मकर संक्रांति पर कविता

मकर संक्रांति पर कविता

मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है
निकलेंगे घरों से हम
तोड़ बंधनों को सब
जकड़ें है जिसमें सर्दी से
बर्फ़ शीत की गर्दी से
हटा तन से रजाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है,

मन में नई मस्ती आई है
तन में भी चुस्ती आई है
गुलज़ार सभी अब बस्ती है
समान सभी तो हस्ती है
कोई ऊंच नीच दुनियाँ में
यह बात बताने आई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है
निकलेंगे घरों से हम
तोड़ बंधनों को सब
जकड़ें है जिसमें सर्दी से
बर्फ़ शीत की गर्दी से
हटा तन से रजाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है ,

हर चेहरा है हँसता हँसता
फूल कली भी खिलता खिलता
तितली बाँगो में आई है
मचलती लेती अंगड़ाई है
भौरों को नहीं सुहाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है
निकलेंगे घरों से हम
तोड़ बंधनों को सब
जकड़ें है जिसमें सर्दी से
बर्फ़ शीत की गर्दी से
हटा तन से रजाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है ,

गुड़ तिल औऱ मूंगफली
दान पुण्य और मिला मिली
रंगे बिरंगे पतंगों का डोर
भरा आकाश का ओर छोर
बढतें रहना सबसें आगें
छोड़कर हर मुश्किल पाछें
कटें ना काँटे किसी के धागे
छोड़ भँवर में क़भी ना भागें
यह बात सबकों बतलाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है ।।

पढ़िए :- गंगा नदी पर कविता | माँ गंगा


रचनाकार का परिचय

बिमल तिवारी यह कविता हमें भेजी है बिमल तिवारी “आत्मबोध” जी ने जिला देवरिया, उत्तर प्रदेश से। बिमल जी लेखक और कवि है। जिनकी यह पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है :- 1. लोकतंत्र की हार 2. मनमर्ज़ियाँ 3. मनमौजियाँ ।

मकर संक्रांति पर कविता ” ( Makar Sankranti Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते है लिखने का हुनर और चाहते है कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply