नया साल पर कविता :- नया साल आया है | Naya Saal Kavita

0

आप पढ़ रहे हैं ( Naya Saal Par Kavita ) नया साल पर कविता :-

नया साल पर कविता

नया साल पर कविता

नया साल आया है
संग ये नई उमंगे लाया है,
पिछले वर्ष दुःख मिले थे जो
ये उन्हें भुलाने आया है।

नए-नए सपने ये लाया है
अब हमें इतिहास बनाना है,
अपने नेक इरादे कर लो
ये उम्मीद जगाने आया है।

भूलकर सभी शिकवे गिले
खुलकर अब हम मिलेंगे गले,
अब कहीं नही उदासी रहे
सभी को हर खुशियां मिलें।

जो हुआ वो बीती बातें थीं
ये प्रीत बढ़ाने आया है,
नया साल आया है
संग ये नई उमंगे लाया है।

पढ़िए :- नव वर्ष पर कविता | अंततम और नूतन बरस


रचनाकार का परिचय

हरदीप बौद्ध

यह कविता हमें भेजी है हरदीप बौद्ध जी ने गाँव अखत्यारपुर जिला बुलन्दशहर (उत्तर प्रदेश) से।

“ नया साल पर कविता ” ( Naya Saal Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply