पापा के लिए कविता :- मेरे पापा | Papa Ke Liye Kavita

2+

पापा के लिए कविता

पापा के लिए कविता

मेरे पापा
जिन्होंने इस चेहरे पर
हर पल ख़ुशी दी हो।
जरूरत से अच्छी
ज़िन्दगी दी हो।

ए खुदा मेरे पापा को
कभी कोई ग़म ना देना,
जिन्होंने अपनी खुशी छोड़कर
हम बच्चों की
हर ख्वाहिश पूरी की ह।

ज़िन्दगी के पन्नों में
मेरे लिए बहुत खास हैं मेरे पापा,
जिस खुशबू में हम रहते हैं
उसके एहसास हैं मेरे पापा।

जिनसे हमारे एक आंसू देखे ना गए
खुद परेशान होकर भी
वो हमें खुशी दे गए,
अपनी जरूरतें भूलकर
वो हमें सपनों की एक उम्मीद दे गए।

हमारे मना करने के बाद भी
वो हमे ज़िन्दगी में यादों की हंसी दे गए
थैंक यू मेरे जज़्बात समझने के लिए
जो हम कह भी नहीं पाते
वो आवाज समझने के लिए।
I love my papa


ज्योति मौर्यायह कविता हमें भेजी है ज्योति मौर्या जी ने जौनपुर से।

“ पापा के लिए कविता ” ( Papa Ke Liye Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

2+

Leave a Reply