चाँद पर छोटी कविता – चंद्रमा की सूरत | Poem On Moon

4+

आप पढ़ रहे हैं चाँद पर छोटी कविता  ( Poem On Moon In Hindi ) ” देख चंद्रमा की सूरत ”

चाँद पर छोटी कविता

चाँद पर छोटी कविता

धरती में देखो फैली हुई है
नीला नीर भरा रत्नाकर,
वदन आतम के झांकती चंद्रमा
अंबर से मुस्कुराकर।

चमकती रहती है रातों में
सभी सितारों के साथ,
टूटा तारा जब दिखता है
सब करते हैं फरियाद।

हृदय को भर देती शीतलता से
ऐसी है यह सुधाकर,
वदन आतम के झांकती है
अंबर से मुस्कुरा कर।

जब रात अंधेरी होती
सबका मन घबराता है,
देख चंद्रमा की सूरत
सुकून सभी को आता है।

पढ़िए – हिंदी कविता चाँद से फरियाद


रचनाकार का परिचय :-
यह कविता हमें भेजी है बालकवि भास्कर वर्मा “उमंग” जी ने ग्राम चंदना (छत्तीसगढ़) से।


“ चाँद पर कविता ” ( Chandrama Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

 

4+

Leave a Reply