हिंदी कविता ख़्वाबों का आशियाना | Khwabon Ka Ashiyana

5+

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता ख़्वाबों का आशियाना :-

हिंदी कविता ख़्वाबों का आशियाना

हिंदी कविता ख़्वाबों का आशियाना

बेवजह होश में हम आने चले थे,
जो दूर दूर तक नहीं थे अपने उन्हें अपना बनाने चले थे।

मदहोश निगाहों में ख़्वाबों का आशियाना बनाने चले थे,
हवाएं बार बार मेरे मन को छू जाती थी

भीनी भीनी खुशबुओं के संग हवाएं
मेरे आंचल में समा जाती थी।

मैं चुपचाप देखती ये आवाथापी
कुछ कही कुछ अनकही बातों में मैं खोई रह जाती थी।

बड़ा दिलनशी मंजर था जब
वो मेरे कान में कुछ कह जाती थी।

मैं अनजान फरेबी वक्त की चालाकियों से
होंठो में मुस्कान संग सिमट जाती थी।

अचानक सर्द हवाओं ने मुझे झकझोरा,
ख्वाबों के पुलिंदे में लिपटी मै दूर बड़ी दूर नजर आती थी।

दास्तां में खोई मेरी तनहाई,
मेरा साया बनकर मेरे साथ साथ नजर आती थी ।


रचनाकार कर परिचय :-

अवस्थी कल्पनानाम – अवस्थी कल्पना
पता – इंद्रलोक हाइड्रिल कॉलोनी , कृष्णा नगर , लखनऊ
शिक्षा – एम. ए . बीएड . एम. एड

“ हिंदी कविता ख़्वाबों का आशियाना ” ( Hindi Kavita Khwabon Ka Ashiyana ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

5+

2 Comments

  1. Avatar Saumya awasthi
  2. Avatar Saumya awasthi

Leave a Reply