बेटी पर कविता हिंदी में :- बेटियां आंगन की रौनक| Beautiful Poem On Daughter

बेटी पर कविता हिंदी में ” बेटियां आंगन की रौनक ” :-

बेटी पर कविता हिंदी में

बेटी पर कविता हिंदी में

बेटियां आंगन की रौनक घर की तहजीब होती हैं,
लग जाते किस्मत में चार चांद जब बेटियां नसीब होती हैं।

रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा,
मेरे घर आंगन का बेटी तू है चमकता सितारा।

कभी न टूटे मेरी बगिया का फूल है जो ये प्यारा,
रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा।

जब आयी तू धरती पर महका जीवन मेरा,
खुशियों से भर आया घर संसार हमारा।

रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा

तेरा प्यारे मुखड़े तेरी मीठी मुस्कान
पे मिट जाता हर दुख दर्द हमारा।

रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा,

पग पग आगे बढ़ते जाना हिम्मत साहस भरते जाना,
राहों में न तुम घबराना तेरी भोली मीठी बातो में।

हर पल खोया बजता रहता मेरे मन का इकतारा,
रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा।

कांटे देख कभी न रुकना झूठ के आगे तुम न झुकना,
बन जाना बेबस लाचारो का तुम एक सहारा।

रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा।

तेरे नाम से पहचान हो मेरी तुझसे जग में शान हो मेरी
तेरे संग संग झूमे यह जग सारा।

रुके कदम न तेरा है तुझको आशीर्वाद हमारा।


रचनाकार कर परिचय :-

अवस्थी कल्पना

नाम – अवस्थी कल्पना
पता – इंद्रलोक हाइड्रिल कॉलोनी , कृष्णा नगर , लखनऊ
शिक्षा – एम. ए . बीएड . एम. एड

“ बेटी पर कविता हिंदी में ” ( Beti Par Kavita Hindi Mein ) आपको कैसी लगी ? बेटी पर कविता हिंदी में के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

6 Responses

  1. Avatar Saumya awasthi says:

    Very nice poetry

  2. Avatar Saumya awasthi says:

    Very nice

  3. Avatar Basant Raj awasthi says:

    Bahut sunder kavita hi mi dil se swagat karta hu bahut2 dhanyvad good evening for you and your family thanks

  4. Avatar Surendra prasaad says:

    Bahut khoobsurat kavita hai. Keep it up

  5. Avatar Surendra prasaad says:

    Housla buland rakhiyega aur likhate rahiye. Kamyaabi jarur milega

  6. Avatar Awasthi kalpana says:

    Ap sbhi ka bahut bahut dhanyawad

Leave a Reply

Your email address will not be published.