हिंदी कविता दिल की आरजू | Hindi Kavita Dil Ki Arzoo

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता दिल की आरजू :-

हिंदी कविता दिल की आरजू

हिंदी कविता दिल की आरजू

तेरे नाम की खुशबू संग मन मदहोश हुआ जाता है ।
बेचैन दिल तेज धड़कन तेरी भीनी यादों में रहना मन को बहुत तड़पाता है ।

पहचान न होती तो अनजाना बना लेते
अपना न सही बेगाना बना लेते ।

एक बुत तलाश लेते ख़्वाबों में ,
साथ लेकर दिल के जहां में कोई बुतखाना बना लेते ।

मौसम भर ये गुलशन न ठहरा ,
ख़्वाबों के अंजुमन को वीराना बना लेते ।

गर उल्फत की शमा जलाते तो बेदर्द
जिगर को अपना परवाना बना लेते ।

छलका नजर से जाम नजर फेरी ,
खुद को वफा का मस्ताना बना लेते ।

निशाने तीर जिगर में
खामोशियों का महखाना बना लेते ।

चाहते बेहतर चाहतों का एक पैमाना बना लेते ।
पहचान न होती तो अनजाना बना लेते ।


रचनाकार कर परिचय :-

अवस्थी कल्पनानाम – अवस्थी कल्पना
पता – इंद्रलोक हाइड्रिल कॉलोनी , कृष्णा नगर , लखनऊ
शिक्षा – एम. ए . बीएड . एम. एड

“ हिंदी कविता दिल की आरजू ” ( Hindi Kavita Dil Ki Arzoo ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

2 Responses

  1. Avatar हरिकृष्ण शुक्ल says:

    गजब दीदी जी

  2. Apka bahut bahut dhanyawad bhai

Leave a Reply

Your email address will not be published.