हिंदी कविता मेरे एहसास | Hindi Kavita Mere Ehsaas

+7

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता मेरे एहसास :-

हिंदी कविता मेरे एहसास

हिंदी कविता मेरे एहसास

मैंऔर मेरे एहसास

मुझको छूकर बार बार हवा कह जाती है ,
बारिश भी मेरे तन मन को भिगा जाती है ।

ख़्वाबों की तपिश में जलती हूं मैं ,
मुझको तुम्हारी बहुत याद आती है ।

काश तुम मुझको समझ पाते ,
मेरे दिल की गहराई में उतर जाते

फिजाओं में फैली है सूरज की मगरुर सी लाली ।
काश चाहत की रंगत में हम चांदनी बनके बिखर जाते ।

हौले हौले स्वच्छंद सुगन्ध में
तुम मधुमास बनके उतर जाते ।

प्रफुल्लित होकर झूमता मन मयूर सा ,
काश हम तुमसे दिल की बात कह पाते ।

काश तुम सामने होते हम जहां से अलविदा हो जाते ।
वेदना ही वेदना छिपी दिल में काश तुम मुझको समझ पाते ।

पढ़िए :- हिंदी कविता विरह वेदना


रचनाकार कर परिचय :-

अवस्थी कल्पनानाम – अवस्थी कल्पना
पता – इंद्रलोक हाइड्रिल कॉलोनी , कृष्णा नगर , लखनऊ
शिक्षा – एम. ए . बीएड . एम. एड

“ हिंदी कविता मेरे एहसास ” ( Hindi Kavita Mere Ehsaas ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+7
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

4 thoughts on “हिंदी कविता मेरे एहसास | Hindi Kavita Mere Ehsaas”

  1. Shyam bildani 'sadhgi' Badnera.Amravati(Maharashtra)

    Bahut hi sunde rachna hain ji.aapki.bahut bahut shubhkamnye
    ✍️shyam bildani badnera(Amravati)Maharashtra

    +1

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *