सैनिकों पर हिंदी में देशभक्ति कविता – वर्दी वाले भगवन

प्रिय पाठकों हमारी आज की कविता हमारे वीर सैनिकों के नाम है जिसका शीर्षक ( Poem On Indian Army In Hindi )” सैनिकों पर हिंदी में देशभक्ति कविता – वर्दी वाले भगवन ” है। वाकई में अगर आज हम अपने घर में सुरक्षित और चैन की नींद सो पा रहे है तो बस हमारे देश के वीर सनिकों की वजह से सो पा रहे हैं। और वैसे भी हमारा देश चारों तरफ से सीमाओं से घिरा देश है तो ऐसी स्तिथि में अगर हम सुरक्षित हैं तो बस हमारे देश के वीर जवानों की वजह से ही हैं। तो आइये पढ़ते हैं कवि हिमांशु प्रेमी जी की देशभक्ति कविता –

सैनिकों पर हिंदी में देशभक्ति कविता

सैनिकों पर हिंदी में देशभक्ति कविता

मंदिर मस्जिद सब पानी में डूबते दिखाई देते है।
वर्दी वाले भगवन बनकर घूमते दिखाई देते है।

बाढ़ में न कोई हिन्दू न कोई दिखे ईसाई।
उनको इतना लगता है डूब रहे है मेरे भाई।
बाढ़ में जब स्थिति उनको गंभीर दिखाई देती है
तब सैनिक को ही हिन्दुस्तां की पीर दिखाई देती है
भोजन पानी और दवाई बांटते दिखाई देते है।
वर्दी वाले भगवन बनकर घूमते दिखाई देते है।

बाढ़ में सैनिक को हमने जान से लड़ते देखा है।
उनको मैंने जीवन में ईश्वरअवतार बनते देखा है।
डूब रहे बच्चे,बूढ़े,जानवर और इंसान कही।
सरकारे कर रही है शायद इनसे भी व्यापार कही।
मुझको यहाँ इंसान यूँ ही मरते दिखाई देते है।
वर्दी वाले भगवन बनकर घूमते दिखाई देते है।

कही भूस्खलन तो कही चहुँओर नीर दिखाई देता है।
हर बच्चा माँ से बिछड़ा सा तीर दिखाई देता है।
पानी में मैंने कितनो ख्वाइसो को मरते देखा है।
बाढ़ पीड़ितों की सेवा में उनके पाँवो को सड़ते देखा है।
तबाही के सैलाबो में खुद वो फसते दिखाई देते है।
वर्दी वाले भगवन बनकर घूमते दिखाई देते है।

ये भगवन ये प्रेमी तेरे चरणों में शीश झुकाता है।
ईश्वर का अवतार नहीं ईश्वर तुझको ये बतलाता है।

यह भी पढ़िए :-शहीद सैनिकों को समर्पित कविता “तिरंगा फहरायेंगे”


 

रचनाकार का परिचय –

हिंमांशुनाम-हिमांशु प्रेमी
पता-लालगंज जिला रायबरेली ,उत्तर प्रदेश

“ सैनिकों पर हिंदी में देशभक्ति कविता ” ( Poem On Indian Army In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

 

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *