अनुगति कविता – पंचभूत से निर्मित ये तन | Anugati Kavita

अनुगति कविता

अनुगति कविता

अनुगति कविता

पंचभूत से निर्मित ये तन
अनुगति में सोता है।
भ्रमण आत्मा का लेकिन
जनम जनम का होता है।।

मोहमाया के जाल में फंसकर
खोता नित निज स्मृतियाँ
पूर्व जन्म के कर्मों से फिर
लिखता नित निज नवकृतियाँ
सुखदुख के चक्रों में उलझ के
खुद हंसता खुद रोता है
पंचभूत से निर्मित ये तन
अनुगति में सोता है।

सुबह शाम जपता ईश्वर को
सुख निज का वो माँगे हरपल
हाथ थमा के हाथ प्रभु के
उसकी इच्छा दे जो भी कल
कर्मयोग ही बदले रेखा
मन में धीरज होता है
पंचभूत से निर्मित ये तन
अनुगति में सोता है।

नर तन लेकर अवतारी ने
लीलाऐं नित नई रचाई है
जन्म मरण का पाठ पढा़या
महिमा कर्म बताई है
अजर अमर आत्मा के बंधन
मिलन विरह तन ढोता है
पंचभूत से निर्मित ये तन
अनुगति में सोता है।

भाव कर्म से जुड़ जायें जब
विवश हों ईश्वर फल देने को
शुद्ध भाव से कर्म किये जा
हंसते हुये जा मुक्ति धाम को
बूँद समाई सागर में जा
मिलन प्रभु से होता है
पंचभूत से निर्मित ये तन
अनुगति में सोता है।

भगवत गीता कुरान भी पढ़ले
माया असर दिखाती है
मरण किसी निज प्रियजन का
मन विचलित कर जाती है
कुछ दिन शोक मनाता इंसा
खेत वही फिर बोता है
पंचभूत से निर्मित ये तन
अनुगति में सोता है।

पढ़िए :- कविता ज़िन्दगी पर – पढ़ो तो किताब है जिदंगी


“ अनुगति कविता ” ( Anugati Kavita ) आपको कैसी लगी ? “ अनुगति कविता ” ( Anugati Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.