गणतंत्र दिवस की हिंदी कविता :- गणतंत्र का पर्व है

0

आप पढ़ रहे हैं गणतंत्र दिवस की हिंदी कविता :-

गणतंत्र दिवस की हिंदी कविता

गणतंत्र दिवस की हिंदी कविता

गणतंत्र का पर्व है
सबको बधाई ,
नमन है उस महामानव को
जिसने दिया भारत को संविधान ।

जहां जातिवाद का जहर था,
धर्म सर्वोपरि था ।
वहां अकेला लड़ा वो महामानव,
मानवता का सन्देश था ।

जाति धर्म, अपमान का विष पीकर
बदलाव लाने की ठाने थी ।
कक्षा के बाहर बैठकर,
शिक्षा जब पाई थी ।

वर्णव्यवस्था का चलन था,
जिसमें वर्ण अनुसार ही कर्म था ।
ठुकराकर उस वर्णव्यवस्था को,
दहन मनुस्मृति का किया ।

कदम कभी ना डगमगाए,
होंसले बुलन्द थें ।
ज्योतिबा को गुरु माना,
कबीर की वाणी थी ।

एक कलम ने ऐसा इतिहास बनाया,
भारत को गणतंत्र देश बनाया ।
जब बाबा साहेब ने अकेले
भारत का संविधान बनाया ।

पढ़िए :- 26 जनवरी की कविता | लोकतंत्र की है जो पहचान


रचनाकार का परिचय

नीरज सिंह कर्दम

यह कविता हमें भेजी है नीरज सिंह कर्दम जी ने बुलंदशहर (यूपी) से।

“ गणतंत्र दिवस की हिंदी कविता ” ( Gantantra Diwas Ki Hindi Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply