हिंदी भाषा पर एक कविता :- आन बान सम्मान है हिन्दी

4+

हिंदी भाषा पर एक कविता ” आन बान सम्मान है हिन्दी ” :-

हिंदी भाषा पर एक कविता

हिंदी दिवस पर कविता

भारत के हर जन में बसे जो
भाषा नहीं निज प्राण है हिन्दी,
भारत मां को जो करे सुसज्जित
आन, बान,सम्मान है हिन्दी।

हिन्दू गौरव, हिन्दू हित अब
हिंदी का मान बढ़ाना है,
जिसकी खोई पहचान अभी तक
वह पहचान दिलाना है।

पर मन को यह पीड़ा भी होती
बिन अंग्रेजी,महत्व मिले ना,
काम, काज, रोजगार सभी में
ना आए फिर काम मिले ना।

भारत प्रधान श्री मोदी जी ने
विश्वजगत ने हिंदी का मान बढ़ाया है,
हिंदी से हिंदुस्तान बढ़े अब
भारत के हर जन को समझाया है।

पढ़िए :- हिंदी भाषा के महत्व पर कविता “हिंदी को ही भूल गया है”


रचनाकार का परिचय

संजय पांडेययह कविता हमें भेजी है संजय पांडेय जी ने जौनपुर,उत्तर प्रदेश से।

हिंदी भाषा इस कविता  ( Hindi Bhasha Par Ek Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

4+

Leave a Reply