हिंदी ग़ज़ल समंदर सी आँखें | Hindi Ghazal Samandar Si Aankhein

हिंदी ग़ज़ल समंदर सी आँखें

हिंदी ग़ज़ल समंदर सी आँखें

हिंदी ग़ज़ल समंदर सी आँखें

समंदर-सी आँखें उधर तौबा-तौबा
इधर डूब जाने का डर तौबा-तौबा

न कर ये, न कर वो, न कर तौबा-तौबा
यों गुज़री है सारी उमर, तौबा-तौबा

वो नज़रें बचाकर नज़र से हैं पीते
लगे ना किसीकी नज़र, तौबा-तौबा

झुके थे वो जितना, हुआ नाम उतना
था घुटनों में उनका हुनर, तौबा-तौबा

मैं टेढ़ी-सी दुनिया में सीधा खड़ा हूँ
गो दुखने लगी है कमर, तौबा-तौबा

यों ज़ालिम ने सारे, चुराए हैं नारे
कि करने लगा है गदर तौबा-तौबा

पढ़िए :- ग़ज़ल – बावरा मन | Ghazal Bawra Man


यह ग़ज़ल हमें भेजी है संजय ग्रोवर जी ने दिल्ली से।

“ हिंदी ग़ज़ल समंदर सी आँखें ” ( Hindi Ghazal Samandar Si Aankhein ) आपको कैसी लगी ? “ हिंदी ग़ज़ल समंदर सी आँखें ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.