हिंदी कविता आख़िर क्यों होता है | Hindi Kavita Akhir Kyon

+3

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता आख़िर क्यों होता है ऐसा :

हिंदी कविता आख़िर क्यों होता है

हिंदी कविता आख़िर क्यों

आख़िर क्यों होता है ऐसा..
जब भी जन्म हुआ लड़की का
क्यों उसको देखा जाता है ऐसा
जैसे मानो उसने कोई
पाप कर दिया हो
क्यों कहा जाता है बचपन से
कि ये तेरा घर नही
तेरा घर तो तेरा ससुराल है

क्यों कुछ भी करने से पहले
हर बार पुछना पड़ता है
कभी माँ और बाप से ,
क्यों कुछ भी करने से पहले
पूछना पड़ता है पति से ,
क्यों कुछ करने से पहले
पूछना पड़ता है ससुराल से
आख़िर ऐसा क्यों होता है

आख़िर क्यों हर सीमा, हर मरियादा उसके लिये
आख़िर क्यों हर सवाल , हर पूछताछ उसके लिये
आख़िर क्यों ?

हर रोज़ लोगों की बुरी नज़रों से
कुचला जाता हैं
आख़िर क्यों ?
हवस का वो ही शिकार बने
आख़िर क्यों ऐसा होता हैं
हर पीढ़ा को सहन करके
फिर भी प्रशन उसी से हर बार होता है
उँगली उसी पे ऊठती है
आख़िर क्यों ऐसा होता?

पढ़िए :- कविता कितना आसान होता है | Kavita Kitna Asaan Hota Hai


रचनाकार का परिचय

रुची

यह कविता हमें भेजी है रुचि जी ने दिल्ली से।

“ हिंदी कविता आख़िर क्यों होता है ” ( Hindi Kavita Akhir Aisa Kyon ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+3

Leave a Reply