हिंदी कविता हूँ मैं बेशरम | Hindi Kavita Main Hun Besharam

0

हिंदी कविता हूँ मैं बेशरम

हिंदी कविता हूँ मैं बेशरम

यूँ तो हम बेशरम ना थे
मगर जमाने वालो ने हमें बनाया
अगर अपनो के लिए आवाज
उठाने से होता है बेशरम  तो हाँ
हूँ मैं बेशरम ।।

अपने अधिकार के लिए लड़ने से
होता है बेशरम तो हाँ
हूँ मैं बेशरम ।।

गलत और सही में सही को चुनने से
अगर होता है बेशरम तो हाँ
हूँ मैं सबसे बड़ी बेशरम ।।

और मैं बेशरम ही सही जनाब
कम से कम गलत के खिलाफ
आवाज तो उठाती हूँ ।
औरों की तरह नहीं जो चुप चाप
भीड़ में खड़े होकर तमाशा देखें ।।

इज्ज़त और संस्कार की बातें तो
आप हम से मत हीं किया कीजिये जनाब
कियोकी इज्ज़त करने तो हमें भी आती है
मगर उनकी जो इज्ज़त करने के लायक हो ।
और रही बात संस्कार की  अपनी माता पिता के
दिए हुऐ संस्कार तो हम में बहुत है ।।

हमें तो बेशरम ही रहने दो जनाब
क्योंकि हमें नहीं आती औरों की तरह
सादगी का मेकप पहन कर नौटंकी करना ।

पढ़िए :- फूल की अभिलाषा कविता | फूल हूँ मैं छोटा सा


मोंजू लिंबूयह कविता हमें भेजी है मोंजू लिंबू जी ने लखीमपुर, असम से।

“ हिंदी कविता हूँ मैं बेशरम ” ( Hindi Kavita Main Hun Besharam ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply