पटल को समर्पित कविता :- पटल के मन को भाया | Patal Ko Samarpit Kavita

1+

पटल को समर्पित कविता

पटल को समर्पित कविता

पलता आया प्राण पिंजर में
हर साँस ने मेरी गाया,
एक से बढ़कर एक सुर-पाँखी
पटल के मन को भाया।

ढ़ली साँझ बन मुरली जैसी
मधुर तान का फेरा,
कलरव करते ओर चहकते
चहूँ और परिंदी डेरा,
अक्षर-मंत्र शब्द के टोने
स्वर के बाण चलाया,
रचनाओं के स्नेह पंखों से
पटल का मान बढ़ाया।

एक से बढ़कर एक सुर-पाँखी
पटल के मन को भाया।

पटल के रोम-रोम में महके
रचनाओं ग़जलों की प्रीत,
पटल की हर थिरकन में गूँजे
कवियों का सूरमय संगीत,
पटल की बोली में गूंगा
आकाश मुखर हो जाए,
पटल की शब्द-तूलिका ने
ये कैसा चल-चित्र बनाया।

एक से बढ़कर एक सुर-पाँखी
पटल के मन को भाया।

औरौं का था अलहदा
अपना था एक नजरिया,
पिघलेगा होकर के तन्हा
तम में जो भरमाया,
चाँद सितारों को छूने की
कभी ना होड़ लगायी,
पटल को रच के यदु जय जी
ने अपना फर्ज निभाया।

एक से बढ़कर एक सुर-पाँखी
पटल के मन को भाया।

पढ़िए :- हिंदी में कविता “दिल की बात”

“ पटल को समर्पित कविता ” ( Patal Ko Samarpit Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

Leave a Reply