हिंदी कविता बेरंग | Hindi Kavita Berang

0

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता बेरंग :-

हिंदी कविता बेरंग

हिंदी कविता बेरंग

रँग बदलती इस दौर मे
लोग कितने बेरँग है
हाव – भाव सब दिखाने के है
अंदर से कमजोर है

रिश्ते – नाते सब बोझ लगे
फिर भी ढोते सब लोग हैं
कोई किसी का हाल ना पुछे
क्या यही जीवन का डोर है

अनमोल है जिंदगी यहाँ
फिर ना कोई मोल है
पल – पल मिट रही है यहाँ
ये कैसा जिंदगी का दौर है

बचपन बीता आँगन में
जवानी सड़को का खाक है
अकेले बसर कर रहे हैं
धूंवे का बस दौर है

कैसे रँग भरे जीवन मे
मन मे यही विचार है
पल में बदलते लोग यहाँ
ये कैसी बेरँग सँसार है।।

पढ़िए :- हिंदी कविता कई सपने | Hindi Kavita Kayi Sapne


रचनाकार का परिचय

गनेश रॉय "रावण"

नाम – गनेश रॉय “रावण”
पिता का नाम- श्री चितराम रॉय
माता – श्रीमती फेकन बाई रॉय
स्थाई पता- ग्राम – भगवानपाली , डाकघर – ओखर , तहसील – मस्तूरी, जिला – बिलासपुर, पिन – 495551 राज्य – छत्तीसगढ़
व्यवसाय – मशीन ऑपरेटर नितिन स्पिननर्स भीलवाड़ा , राजस्थान

“ हिंदी कविता बेरंग ” ( Hindi Kavita Berang ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply