हिंदी कविता – दरिद्रता | यह कैसी दरिद्रता

+3

गरीबी एक ऐसी चीज है जो जीवन को दुखद बना देती है। इसी विषय पर प्रस्तुत है हिंदी कविता – दरिद्रता :-

हिंदी कविता – दरिद्रता

हिंदी कविता - दरिद्रता

यह कैसी दरिद्रता?
मानव स्तब्ध
उदर रिक्त
अचंभा जेब का
पड़ा सूखा पत्ता,
कैसा ईश्वरकृत।

संतान ईश्वर की
भाग्य खाली,
यह कैसी प्रीत
लपटने को चीथड़ा कंबल,
निद्रा पूरी कैसे
जब मौसम शीत।

अषाढ़ की महिमा निराली
दीवार ढह रही,
रसोइयाँ जलकृत
ध्वनि प्रचंड मेघ की,
बच्चे आंचल में छुपते
ममता माया एवं सूत।

चिंघाड़ती रात्रि का समापन
उजड़ा है संसार,
घरौंदा कैसे नवनीत?
दास बनकर जीना मुझे
स्वामी मेरे सरकार
है विधि पुनीत।


दीपक भारतीयह रचना हमें भेजी है दीपक भारती जी ने कोरारी गिरधर शाह पूरे महादेवन का पुरवा, अमेठी से

“ हिंदी कविता – दरिद्रता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+3

Leave a Reply